शाहरुख़ ख़ान मेरे पहले क्रश हैं: माहिरा

इमेज कॉपीरइट Mahira Khan Twitter
Image caption बॉलीवुड में 'रईस' माहिरा की पहली हिंदी फ़िल्म है.

"शाहरुख़ खान बचपन में मेरे पहले क्रश थे. तब मैं स्कूल में थी. मैंने स्कूल में ऐसा लड़का ढूँढना शुरू किया जिसमें कुछ तो शाहरुख़ जैसा हो." ये हैं पाकिस्तानी अभिनेत्री माहिरा ख़ान का बचपन का किस्सा जो जिन्होंने बीबीसी को दिए इंटरव्यू में बताया था.

माहिरा ख़ान पाकिस्तान की टॉप अभिनेत्रियों में से हैं और बॉलीवुड में 'रईस' उनकी पहली हिंदी फ़िल्म है.

शाहरुख़ ने रविवार को महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे से मुलाक़ात की है. जिसके बाद अटकलें हैं कि प्रमोशन के लिए माहिरा को भारत नहीं बुलाया जाएगा.

सोशल: 'हिंदुस्तान को माहिरा से डर लगता है'

जब 'राज दरबार' में बॉलीवुड ने लगाई हाज़िरी

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
पाकिस्तानी अभिनेत्री माहिरा ख़ान ने बीबीसी को दिए इंटरव्यू में बताया था बचपन का किस्सा.

माहिरा को कुछ लोग पाकिस्तान की माधुरी दीक्षित भी कहते हैं. हालांकि भारतीय टीवी दर्शकों के लिए माहिरा नई नहीं है. पाकिस्तानी टीवी सीरियल 'हमसफ़र' के ज़रिए उन्होंने लाखों भारतीय फ़ैन बटोरे हैं.

2014 में जब भारत में इस सीरियल का आख़िरी एपीसोड दिखाया गया था तो भारत में वो ट्विटर पर छा गई थीं.

शाहरुख़ की फ़ैन तो माहिरा है हीं, साथ ही उन्हें पुराने हिंदी गाने भी बहुत अच्छे लगते हैं.

इमेज कॉपीरइट Mahira Khan Twitter
Image caption माहिरा खान की पसंदीदा पंक्तियां.

माहिरा को शायरी भी बेहद पसंद है और उनके ट्विटर अकाउंट पर नईरा वहीद की ये पंक्तियाँ पिन टू टॉप रहती हैं- "माई हार्ट इज़ इन माई माइंड. आई थिंक दिस इज़ वाय आई एम ऐन आर्टिस्ट" - यानी मेरा दिल दरअसल मेरे दिमाग़ में हैं, शायद इसीलिए मैं एक कलाकार हूँ.

'मुश्किल में, राज ठाकरे का दरवाज़ा खटखटाओ

रईस और दंगल पार कर पाएंगी नई खड़ी हुई दीवारें?

इस साल जनवरी में बीबीसी उर्दू को दिए इंटरव्यू में दिल की बातें साझा करते हुए माहिरा ने कहा था कि वो आज भी दिमाग़ से ज़्यादा दिल से सोचती हैं और इसलिए कभी कभी ग़लत फ़ैसले भी ले लेती हूँ.

वीजे से करियर शुरू करने वाली माहिरा ने पाकिस्तान में कई टीवी सीरियलों में काम किया जिन्हें ख़ूब वाहवाही मिली.

इमेज कॉपीरइट Mahira Khan Facebook
Image caption उड़ी हमले के बाद माहिरा की सोशल मीडिया पर ट्रोलिंग भी हुई थी.

2011 में वो पाकिस्तानी फ़िल्म 'बोल' में नज़र आईं जो भारत में रिलीज़ होने वाली चंद पाकिस्तानी फ़िल्मों से हैं.

पिछले साल उन्होंने फ़िल्म 'मंटो' में भी काम किया. धीरे-धीरे माहिरा कामयाबी की सीढ़ियाँ चढ़ती गईं.

फ़वाद ख़ान ने भारत-पाक विवाद पर चुप्पी तोड़ी

'ऐ दिल है मुश्किल' मामले पर सुलह

करण के समर्थन में और विरोध में कौन

इस साल जब उड़ी में भारतीय सैनिकों पर हमला हुआ था तो माहिरा ख़ान से कई लोगों ने पूछा था कि क्यों उन्होंने उड़ी हमले की आलोचना नहीं की और सोशल मीडिया उनकी ट्रोलिंग भी हुई.

इमेज कॉपीरइट Mahira Khan Twitter

कई दिनों की चुप्पी के बाद माहिरा ने अपने फ़ेसबुक पर ये पोस्ट किया था- "एक पाकिस्तानी नागरिक होने के नाते मैं किसी भी आंतकी हमले की निंदा करती हूँ, जान किसी की भी जाए वो निंदनीय है. मैं हमेशा एक ऐसी दुनिया की उम्मीद करूँगी जहाँ मेरा बच्चा बिना ख़ूनखराबे और जंग के जी सके. आपकी दुआ और प्यार के लिए शुक्रिया."

अपने बचपन के क्रश यानी शाहरुख़ ख़ान के साथ फ़िल्म में ब्रेक मिलने को माहिरा किसी सपने के सच होने जैसा मानती रही हैं.

लेकिन अब दोनों मुल्क़ों के ताज़ा हालात के बीच उनका हिंदुस्तान लौटना अभी मुश्किल ही लगता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे