आमिर ख़ान फ़िल्म बेचने में शातिर ख़ान!

इमेज कॉपीरइट SPICE PR

साल 2014 में आई फ़िल्म 'पीके' के बाद सुस्त पड़े आमिर ख़ान अचानक सक्रिय नज़र आने लगे हैं. हाल ही में उन्हें हरियाणा के छोटे शहरों के चौराहे पर टूटी-फूटी हरयाणवी बोलते देखा गया.

आमिर भिवानी के एक मध्यमवर्गीय परिवार की शादी में वधु पक्ष की तरफ से शरीक होते देखे गए. आमिर का 'फैट टू फिट' कैंपेन इन दिनों मीडिया की सुर्ख़ियों में है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
आमिर ख़ान की सक्रियता में ही उनकी कामयाबी का राज छुपा है.

इसमें आमिर अपने मोटे-थुलथुले शरीर से फिट और चुस्त-दुरुस्त कायाकल्प के ज़रिए लोगों को संदेश देते नज़र आ रहे हैं.

मेरा बापू सच में हानिकारक है: गीता

लोगों को कैसा लग रहा है आमिर का 'दंगल'

दरअसल आमिर ख़ान की इस अचानक सक्रियता में ही उनकी कामयाबी का राज़ छुपा है. इसी सक्रियता को बॉलीवुड में 'प्रमोशनल फंडा' माना जाता है. जिसमें आमिर ख़ान अपने काम की तरह ही एकदम परफेक्ट माने जाते हैं.

ऐसा लगता है कि प्रमोशन के इन पैंतरों पर आमिर को इतना यकीन है कि इसके लिए वो किसी भी सीमा तक जाने के लिए तैयार रहते हैं.

हर फ़िल्म के लिए आमिर अलग-अलग स्ट्रेटेजी बनाते हैं, जो एकदम नई और प्रभावी होती है. वो हमेशा इसे वनमैन शो के स्टाइल में अमली जामा पहनाते हैं.

आमिर ख़ान का 'दंगल' शुरू

रईस और दंगल पार कर पाएंगी नई खड़ी हुई दीवारें?

19 दिसंबर, 2014 को रिलीज़ हुई फ़िल्म 'पीके' को प्रमोट करने के लिए आमिर ने भोजपुरी सीखी थी. फ़िल्म के फर्स्ट लुक के साथ ही जारी किए गए मोशन पोस्टर में आमिर भोजपुरी बोलते हुए दिखाई दिए.

आमिर ने इस बात को लेकर और अधिक उत्सुकता बढ़ाने के लिए अपने ट्विटर अकाउंट पर भोजपुरी में ही मैसेज लिखने भी शुरू कर दिए थे, जिससे दर्शकों में उनके फ़िल्म 'पीके' के प्रति उत्सुकता बने.

इमेज कॉपीरइट SPICE PR

फ़िल्म के प्रमोशन के लिए आमिर खान ने पुतलों का इस्तेमाल किया था, जो थियटर्स में रखे गए और जब इन पुतलों के पास दर्शक गए तो आमिर उनसे भोजपुरी में बात करते दिखे. दरअसल, इन पुतलों में आमिर की रिकॉर्डिड आवाज़ थी.

'आमिर ख़ान मोटू-पतलू के लिए पूरी तरह फिट'

आमिर ने 21000 लड़कियां 'रिजेक्ट' कीं

फ़िल्म 'धूम 3' के प्रमोशन के दौरान शुरुआत में आमिर गायब नज़र आए. इसे उनके और यशराज फ़िल्म्स के बीच तनाव के रूप में पेश कर मीडिया में हाइप बनाया गया. क्लाइमैक्स पर पर्दा उठा और तीसरे राउंड के प्रमोशन से जब आमिर हर छोटे-बड़े सेंटर पर पब्लिक से रूबरू हुए तो उनके आने की ख़बर यकीनन मीडिया में खूब हॉट रही.

इमेज कॉपीरइट SPICE PR

इससे फ़िल्म लगातार चर्चाओं में बनी रही और फ़िल्म को जबरदस्त कामयाबी मिली. यह सब आमिर खान की प्लानिंग का एक हिस्सा भर था. फ़िल्म 'पीपली लाइव' को प्रमोट करने के लिए आमिर ने तब मंहगाई से जूझ रही जनता के सामने इस फ़िल्म का गाना 'मंहगाई डायन खायत जात है...' के ओरिजनल सिंगर्स को इंट्रोड्यूज करने के अलावा मॉल्स और कई अन्य जगहों पर लाइव परफॉरमेंस करवाए.

आमिर ख़ान का नया लुक हुआ वायरल

देखिए आमिर की फ़िल्म दंगल का पोस्टर

इतना ही नहीं आमिर ने खुद इस फ़िल्म के प्रमोशन के दौरान ड्रम बजाकर भी मीडिया और दर्शकों को अट्रेक्ट किया. 'गजनी' की रिलीज़ से पहले आमिर ने तमाम गंजों की फौज के साथ अपनी फ़िल्म का प्रमोशन किया.

फ़िल्म के प्रमोशन के लिए सड़कों पर उस्तरा लेकर भी घूमे और अपने कुछ फैन्स का 'गजनी हेयरस्टाइल' बनाकर अखबारों में खूब सुर्खियां बटोरी. पूरी बॉडी पर टैटू लगाए गए पोस्टर देख दर्शक पहले ही उत्साहित थे और जब आमिर ने इसमें अपनी मार्केटिंग प्लानिंग मिक्स कर ली तो यह फिल्म बंपर हिट रही.

इमेज कॉपीरइट AFP

फिल्म 'थ्री इडियट्स' के प्रमोशन के दौरान आमिर की व्यवसायिक सोच अपने चरम पर दिखी. आमिर इस फ़िल्म के प्रमोशन के दौरान बहुरूपिया का रूप धारण कर ऑटो रिक्शे से घूमते नज़र आए, तो कभी गांव के स्कूलों में बच्चों के बीच चाय लेकर पहुंच गए.

कंगना और आमिर के बीच नहीं होगा दंगल!

शाहरुख़ ख़ान पर भारी तारीख़ पर तारीख़

फ़िल्म रिलीज़ होने से पहले आमिर ख़ान अलग-अलग गेटअप में देश के अलग-अलग शहरों में घूमे. आमिर ख़ान का गेटअप वाकई इतना नया और बनावटी था कि कोई उन्हें पहचान ही नहीं पाया.

फ़िल्म 'मंगल पांडे' की रिलीज़ से पहले जो इंटरव्यू हुए, उनमें आमिर ख़ान ने सभी जर्नलिस्ट्स से उनकी मूंछें खींचने के लिए कहा, ताकि वो चैक कर सकें कि ये असली हैं या नकली. इस तरह की छोटी-छोटी लेकिन अट्रेक्टिव मार्केटिंग स्ट्रैटजी से आमिर अपनी फ़िल्मों की हाइप बढ़ाते रहे.

इमेज कॉपीरइट SPICE PR

आमिर ख़ान फ़िल्म 'तलाश' के लिए मुंबई के क्राइम रिपोर्टर से मिले थे. जहां उन्होंने क्राइम रिपोर्टिंग की फील्ड में होनेवाली दिक्कतों को साझा किया. साथ ही क्राइम रिपोर्टर्स से बारे में जानकारी ली.

जब दिल्ली में मिले वो दो 'पहलवान'

बॉक्स ऑफ़िस पर बरस सकती है पैसे की बारिश

फ़िल्म 'लगान' के लिए आमिर ने जो मार्केटिंग फंडा अपनाया उससे सब दंग रह गए थे. 'लगान' के प्रमोशन में आमिर लगान के सभी मुख्य किरदारों के साथ फ़िल्म में अपनाए गए गेटअप में ही विभिन्न मॉल्स और सार्वजनिक जगहों पर पहुंचे.

इतना ही नहीं पूरी टीम ने मॉल में 'लगान' फ़िल्म में अपनाए गए अपने-अपने गेटअप में ही क्रिकेट भी खेला. यह देखकर निश्चित था कि पब्लिक फ़िल्म से कनेक्ट होती चली गई और आमिर की यह मार्केटिंग स्ट्रेटजी काम कर गई.

इमेज कॉपीरइट Spice PR

इतना ही नहीं आमिर ने 'लगान' की रिलीज़ से पहले क्रिकेट की दुनिया के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर को फ़िल्म दिखाकर भी तब खूब सुर्खियां बटोरीं थी. बॉलीवुड में फ़िल्म प्रमोशन फ़िल्म की लागत का ही हिस्सा माना जाता है और इस पर भारी-भरकम रकम भी ख़र्च की जाती है, लेकिन आमिर की सोच अलग है.

फ़िल्म के वरिष्ठ समीक्षक अजय ब्रह्मात्मज के मुताबिक, "फ़िल्म की मेकिंग पर आमिर का जितना ध्यान होता है, उससे कई ज़्यादा ध्यान वो फ़िल्म के प्रमोशन पर देते हैं. आमिर ने फ़िल्म प्रमोशन के लिए एक ख़ास टीम बना रखी है. जिसमें मार्केटिंग, मीडिया और स्ट्रेटेजी से जुड़े लोग शामिल हैं. आमिर की स्ट्रेटेजिकल समझ ही उनकी फिल्मों को ख़ास बना देती है."

आमिर की फिल्मों की मार्केटिंग एजेंसी "स्पाइस" की प्रमुख शिल्पा हांडा के मुताबिक़, "यह पूरी स्ट्रेटेजी ज़्यादातर आमिर के ही दिमाग की उपज होती है, जिसे हम हर संभव तरीके से जमीनी स्तर पर लाने की कोशिश करते हैं. कभी-कभी हम अपना आइडिया भी उनसे शेयर करते हैं, लेकिन उन्हें पसंद आने या ना आने पर निर्भर करता है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे