टीआरपी रेस में 'नागिन' का दबदबा बरकरार

इमेज कॉपीरइट COLORS

नागिन और कुमकुम भाग्य के हफ़्तों से चले आ रहे पहले और दूसरे पायदान के खेल को अगर एक तरफ़ रख दें तो इनके अलावा दर्शक भारतीय टेलीविज़न पर क्या देखते हैं, यह जानना दिलचस्प है.

भारत में सबसे ज़्यादा दर्शक मिलते हैं हिंदी फ़िल्मों को और सेट मैक्स पर आने वाली फ़िल्मों को एक ही समय में तीन लाख़ (सबसे ज़्यादा) लोग देखते हैं और वहीं ज़ी सिनेमा पर आने वाली फ़िल्मों को एक ही समय पर ढाई लाख़ से ज़्यादा लोग देखते हैं.

लेकिन शहरी दर्शकों के आधार पर इस हफ़्ते के पहले पाँच पायदानों पर रहने वाले धारावाहिकों के बारे में हम आपको बता रहे हैं.

1. नागिन 2 (कलर्स)

'नागिन' धारावाहिक के दूसरे सीज़न को इतनी टीआरपी हासिल हो रही है कि दूसरे स्थान पर रहने वाला 'कुमकुम भाग्य' लगभग 500 टीआरपी प्वाइंट्स पीछे है.

'नागिन' धारावाहिक के इस सीज़न में पिछले सीज़न की नागिन की बेटी अपनी मां का बदला लेने की कोशिश कर रही है.

2. स्टार स्क्रीन अवॉर्ड्स (स्टार प्लस)

बॉलीवुड के कलाकारों और ख़ासकर मुख्य आकर्षण सलमान ख़ान के चलते इस इवेंट को शहरी दर्शकों ने भारी मात्रा में देखा. दरअसल इस अवॉर्ड को 31 की रात को दिखाया गया था और ऐसे में नए साल के विशेष कार्यक्रम के तौर पर इसे देखने वाले कई दर्शक थे.

3. शक्ति - अस्तित्व के एहसास की (कलर्स)

एक ट्रांसजेंडर महिला और एक पुरूष के बीच के प्यार की कहानी अब धीरे-धीरे एक आम कहानी बनती जा रही है. हालांकि ट्रांसजेंडर किरदार अभी भी इस धारावाहिक में मौजूद है, लेकिन अब वो भी सामान्य सास-बहू की साज़िशों में घिरने लगी है.

4. कुमकुम भाग्य (ज़ी टीवी)

ज़ी टीवी का यह एकमात्र धारावाहिक है जिसे लंबे अरसे तक टॉप 5 में रहने का सौभाग्य हासिल है. अभि और प्रज्ञा की इस कहानी में ये दोनों किरदार कितनी बार मिले और अलग हो चुके हैं इसकी गिनती नहीं की जा सकती. लेकिन इनके मिलने की आस में लोग अभी भी इस धारावाहिक को देख रहे हैं

इमेज कॉपीरइट STAR PLUS

5. साथ निभाना साथिया (स्टार प्लस)

स्टार प्लस के इस धारावाहिक को ख़ालिस सास-बहु धारावाहिक होने का श्रेय जाता है. गोपी बहू और उसके मोदी परिवार में आने वाली समस्याएं अनंतकाल से चली आ रही हैं और कभी-कभी ऐसा लगता है कि गोपी बहू के घर में कोई खुशी पूरी नहीं हो पाती है कि कोई समस्या खड़ी हो जाती है.

फ़िलहाल टेलीविज़न शोज़ के मामले में 'साथ निभाना साथिया' सबसे लंबे समय से चले आ रहे धारावाहिकों में से एक बन चुका है.

(सभी आँकड़े टीआरपी एकत्रित करने वाली आधिकारिक एजेंसी बार्क इंडिया द्वारा उपलब्ध करवाए गए हैं, ये आँकड़े 31 दिसंबर 2016 से 6 जनवरी 2017 तक दिखाए गए कार्यक्रमों के आधार पर हैं)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे