'सेनाएं' तय करेंगी फ़िल्म की कहानी

इमेज कॉपीरइट INSTAGRAM/DEEPIKA PADUKONE

राजस्थान के जयपुर में शुक्रवार को बॉलीवुड फ़िल्मकार संजय लीला भंसाली पर संस्कृति के कुछ कथित पहरेदारों ने हमला किया.

भंसाली जयपुर के जयगढ़ किले में अपनी नई फ़िल्म 'पद्मावती' की शूटिंग कर रहे थे, जब करणी सेना नाम के एक समूह के कार्यकर्ताओं ने उन पर हमला किया.

फ़िल्म 'पद्मावती' चितौड़गढ़ की रानी पद्ममिनी की कहानी है.

भंसाली ने शुक्रवार को कहा था कि उन पर हमला किया गया है. सेना के कार्यकर्ताओं ने सेट पर मौजूद कैमरा और अन्य चीज़ों को भी तोड़ा.

विवादों में नहीं फंसेगी बैंगिस्तानः रितेश

काशीनाथ सिंह भी लौटाएंगे अकादमी पुरस्कार

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सेना का आरोप है कि फ़िल्म के एक दृश्य में दिल्ली सल्तनत के बादशाह अलाउद्दील खिलजी को अपने सपने में रानी पद्मिनी को प्रेम करते दिखाया गया है.

सेना का दावा है कि भंसाली ने अपनी फ़िल्म में इतिहास के तोड़ मरोड़ कर पेश किया है. सेना के अनुसार किले पर अलाउद्दीन के हमले की बात सुन कर रानी पद्मिनी ने जौहर किया था और किले की अन्य महिलाओं के साथ आग में कूद कर जान दे दी थी.

इससे पहले आशुतोष गोवारिकर की फ़िल्म 'जोधा अकबर' के ख़िलाफ़ भी प्रदर्शन किए गए थे. साल 2014 में सेना के कार्यकर्ताओं ने टेलीविज़न सीरियल के ख़िलाफ़ टीवी चैनल के दफ्तर पर हमला किया था.

चर्चा में 'मोहल्ला अस्सी'

शंकराचार्य ने कराई फ़िल्म पर एफ़आईआर

टीवी को 'सेंसर' कौन करता है?

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption फ़िल्म 'जोधा अकबर' में ऐश्वर्या राय ने रानी जोधाबाई का किरदार निभाया था.

इससे पहले भंसाली ने मराठा पेशवा की एक मुस्लिम राजकुमारी के प्रेम की कहानी 'बाजीराव मस्तानी' बनाई थी. इस फ़िल्म पर भी कुछ लोगों ने आपत्ति जताई थी और कहा था कि फ़िल्म में पेशवा बाजीराव को ग़लत तरीके से पेश किया गया है जिससे उनकी भावनाएं आहत हुई हैं.

फ़िल्म संस्कृति के कथित पहरेदारों के पूरी कहानी पढ़ने के बाद ही इसकी शूटिंग शुरू हो सकी थी.

फ़िल्मों की बात करें तो फ़िल्में कोई गहरी बात पेश नहीं करती हैं, लेकिन इनकी पहुंच अधिक लोगों तक होती है.

ये मूल रूप से मनोरंजन के लिए बनाई जाती हैं लेकिन इनमें प्यार की जीत होता दिखाया जाता है, सहिष्णु बनने का पैग़ाम दिया जाता है. फ़िल्में नफ़रतों के ख़िलाफ़ होती हैं और लोगों पर एक सकारात्मक छाप छोड़ती हैं.

लोगों को लगा नहीं बनेगी 'बाजीराव मस्तानी'

विवादों में घिरी फ़िल्म, कितना नफ़ा..

Image caption इतिहासकार इरफान हबीब ने ट्वीट किया, "साल 1540 में मलिक मोहम्मद जायसी ने पद्मावत लिखी थी जिसमें रानी पद्मिनी के किरदार का ज़िक्र था. इसका इतिहास में इससे पहले कोई ज़िक्र नहीं है."

संस्कृति के कथित पहरेदार या कट्टरपंथी, हिंदू हो या मुसलमान, वो फ़िल्मों की इस सकारात्मकता से डरते हैं और फ़िल्मों के ख़िलाफ़ बातें करते हैं. मुस्लिम उलेमाओं ने तो ये भी कह दिया था कि फ़िल्में नहीं देखनी चाहिए.

बीते कुछ सालों से भारत में प्रेम, सहिष्णुता, वैज्ञानिक सोच पर काफी दबाव पड़ा है. साहित्य, कला या मीडिया- अभिव्यक्ति के सभी ज़रियों को कड़े प्रतिरोध का सामना करना पड़ा है.

कभी कहानी के नाम, कभी इतिहास के नाम पर तो कभी कलाकारों के धर्म या देश के नाम पर- फ़िल्मों पर भी दबाव बढ़ा है.

कट्टरपंथी संगठन प्रेस कांफ्रेस कर सार्वजनिक तौर पर फ़िल्मों को बेन करने की बात करते हैं, थिएटरों को धमकियां देते हैं और ऐसा नहीं है कि उन्हें राजनीतिक समर्थन हासिल नहीं.

सुधींद्र कुलकर्णी पाक एजेंट हैं: शिव सेना

मुश्किल में 'ऐ दिल है मुश्किल'

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption करण जौहर की फ़िल्म 'ऐ दिल है मुश्किल' की रिलीज़ से पहले इसमें पाकिस्तानी कलाकार फवाद ख़ान के काम करने को ले कर काफी विरोध हुआ था.

फिलहाल फ़िल्म एकमात्र ऐसा ज़रिया है जो इन सभी कट्टरपंथी विचारों के सामने डट कर खड़ा है. फ़िल्म कोई समाज में बदलाव के लिए नहीं बनाई जाती, ये तो व्यवसाय के लिए बनाई जाती हैं.

व्यवसाय का ठप होना कोई फ़िल्म बर्दाश्त नहीं कर सकती. अगर फ़िल्म के ख़िलाफ़ प्रदर्शन लंबे समय तक होते रहे तो इसका असर उसके व्यवसाय पर पड़ता है और फ़िल्मों का यह ज़रिया भी मज़बूत नहीं रह पाएगा.

करण जौहर के दफ़्तर पर मनसे का प्रदर्शन

'हिंदुस्तान को माहिरा से डर लगता है'

Image caption फवाद ख़ान

बीते साल एक कांफ्रेंस में बॉलीवुड के नामी गीतकार जावेद अख़्तर से किसी ने सवाल पूछा था कि क्या देश में असहिष्णुता बढ़ रही है.

इसके जवाब में जावेद अख़्तर ने कहा था, "ये तो मुझे नहीं पता लेकिन 1983 में बनी फ़िल्म 'जाने भी दो यारों' आज कोई बना नहीं पाएगा."

'आम हिंदुस्तानियों का गुस्सा कहां निकलेगा'

कॉमेडी को बी ग्रेड समझा जाता है: जावेद अख्तर

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे