कंगना ने खोला बॉलीवुड में दोस्त न होने का राज़

इमेज कॉपीरइट Spice PR

दो नेशनल अवॉर्ड जीतने वाली अभिनेत्री कंगना रनौत ने फ़िल्म 'क्वीन' और 'तनु वेड्स मनु" से बॉलीवुड में अपनी ख़ास जगह बनाई है.

एक दशक से बॉलीवुड में काम कर रही कंगना ने बॉलीवुड में दोस्त नहीं बनाए और इसी वजह से वो अपने आप को सफल मानती हैं.

बीबीसी से ख़ास रूबरू हुई कंगना रनौत ने फ़िल्म इंडस्ट्री में होने वाली दोस्ती पर अपनी राय रखते हुए कहा, "मैं सफल हूँ क्योंकि यहाँ मेरा कोई दोस्त नहीं है. अगर आपके दोस्त सफल हो जाते हैं या सिर्फ आप सफल हो जाते हो तो रिश्ते उलझ जाते हैं. काम पर जब इंसानी जज़्बात आ जाते हैं तो कड़वाहट आ जाती है और आप सही फैसला नहीं ले पाते."

कंगना-ऋतिक झगड़ा, और उलझ गया मामला?

इमेज कॉपीरइट Spice PR

कंगना ने माना कि दोस्ती तक तो ठीक है पर फ़िल्म इंडस्ट्री में प्रेम प्रसंग होना और भी बुरा है. इसलिए वो किसी निर्देशक, अभिनेता या सह कलाकार की दोस्त नहीं है और फ़िल्म इंडस्ट्री में सिर्फ़ काम करती है.

'नहीं बदली कुछ लोगों की मानसिकता'

फ़िल्म इंडस्ट्री में अक्सर बहस छिड़ती है कि फ़िल्मी अभिनेत्रियों को अभिनेताओं की तुलना में कम पैसे मिलते हैं. कंगना ने अपनी पिछली फ़िल्मों से बॉक्स ऑफिस में अपनी अहमियत साबित की पर उनके मुताबिक अभी भी फ़िल्म इंडस्ट्री के कुछ लोग हैं जिनकी मानसिकता नहीं बदली है.

43 साल के बेटे को पापा कब तक बचाएंगे- कंगना

वो कहती है कि, "उन्हें महिला प्रधान फ़िल्म बनाकर पैसे कमाने है पर महिलाओं को पैसे नहीं देने. हमारा संघर्ष जारी है अगर कुछ नहीं हुआ तो हम खुद अपने लिए फिल्में बनाएंगे."

इमेज कॉपीरइट Spice PR

जहाँ बॉलीवुड से हॉलीवुड जाने वाले कलाकारों की संख्या बढ़ रही है वहीं कंगना फ़िलहाल बॉलीवुड में रहकर अपने दर्शकों के दिल में अपने लिए जगह बनाने में विश्वास रखती है.

उनके मुताबिक भारत से जाने वाला कोई भी भारतीय कलाकार हॉलीवुड में मेहमान ही होगा और अपनी भारतीयता का ही प्रदर्शन करेगा. उन्हें गर्व है की प्रियंका, इरफ़ान और दीपिका देश का नाम रोशन कर रहे हैं पर ऐसा मान लेना कि उनकी वहाँ जाने से बहुत कुछ बदल जाएगा, ये ग़लत होगा.

इंडस्ट्री में भेदभाव

कंगना मानती है फ़िल्म इंडस्ट्री में भेदभाव होता है.

ऐसे ही नहीं हुआ कंगना का कायापलट

वो कहती है कि, "जो अभिनेता सफल हो जाते हैं वो दूसरों अभिनेताओ को आगे आने नहीं देते पर ये चलन सिर्फ़ फ़िल्म इंडस्ट्री तक सीमित नहीं है. 90 का दौर फ़िल्म इंडस्ट्री के लिए सबसे बुरा दौर था जब अंडरवर्ल्ड और डॉन का दबदबा था पर अब सबसे बेहतरीन दौर चल रहा है. फ़िल्म इंडस्ट्री अभी किशोरावस्था में है उसे अच्छी फिल्मों से जवान करना है."

इमेज कॉपीरइट Spice PR

विशाल भारद्वाज की विश्व युद्ध-2 की पृष्ठभूमि पर बनी फ़िल्म 'रंगून' में कंगना रनौत मिस जूलिया का किरदार निभा रही हैं जो 40 के दशक की स्टंट हीरोइन से प्रेरित है. फ़िल्म में कंगना अभिनेता सैफ़ अली खान और शाहिद कपूर संग रोमांस करती नज़र आएँगी. फ़िल्म 24 फरवरी को रिलीज़ होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे