चूहा, एक कमाल का को-ऐक्टर निकला

इमेज कॉपीरइट Raindrop PR

राजकुमार राव विक्रमादित्य मोटवानी की फ़िल्म 'ट्रैप्ड' में नज़र आ रहे हैं. ये फ़िल्म एक ऐसे इंसान की कहानी है जो एक बहुमंज़िली इमारत वाले अपने ही घर में बंद हो जाता है और वहां से निकलने की नाकाम कोशिश करता है, लेकिन उसकी पुकार कोई नहीं सुनता.

अपने किरदार को निभाते वक़्त राजकुमार राव ने कम खाना खाया और कीड़े-मकोड़ों के साथ शूट किया.

राजकुमार हंसते हुए कहते हैं, "चूहा एक कमाल का को-ऐक्टर था. मैंने पहली बार चूहे के साथ काम किया. चूहे ने कैमरे के सामने रियल एक्टिंग की."

इमेज कॉपीरइट SPICE PR

फ़िल्म के निर्देशक विक्रमादित्य मोटवानी इससे पहले 'लुटेरा' और 'उड़ान' जैसी फ़िल्मों का निर्देशन कर चुके हैं. उन्होंने 'देव-डी' और 'दन दना दन गोल' जैसी फ़िल्में भी लिखी हैं.

बॉलीवुड की 'स्क्रीन वॉर'

बॉलीवुड में समझौते करने पड़ते हैं: सनी लियोनी

फिल्म में अपने किरदार के बारे में राजकुमार कहते हैं, "ये ज़रूरत थी कि उस किरदार जैसा लगने के लिए मैं भी कमज़ोर दिखूं. मैं सिर्फ़ गाजर खाता और कॉफ़ी पीता था. मुझे पर्दे पर दिखाना था कि मेरे शरीर में फ़र्क पड़ा है."

बड़ा मौका

'क्वीन', 'अलीगढ़', 'शाहिद' और 'काइ पो चे' जैसी फ़िल्मों में नज़र आ चुके राजकुमार साल 2017 में 'ट्रैप्ड', 'शिमला मिर्च' और 'न्यूटन' में नज़र आएंगे.

'ट्रैप्ड' के बारे में राजकुमार कहते हैं, "मेरे लिए 18-20 दिन तक उस छोटी-सी जगह में रहना बहुत मुश्किल था. क्योंकि मैंने अपने खाने पर काबू रखा, कम खाया तो मुझे 'ब्लैक आउट्स' हुए. मगर ये मेरा काम है. ये अनुभव बहुत क़ीमती हैं. एक कलाकार के रूप में ये मेरे करियर में एक बड़ा मौका है."

'पाक कलाकारों की मजबूरी समझी जानी चाहिए'

बॉलीवुड: इस हफ्ते की झलकियां

जब उनसे पूछा गया कि उन्होंने कभी 'ट्रैप्ड' महसूस किया तो राजकुमार कहते हैं, "सातवीं क्लास में था जब मैं भावनाओं में 'ट्रैप्ड' हुआ. लेकिन अब वो दो बच्चों की मां है. अब मैं दोबारा से 'इमोशनली ट्रैप्ड' हूँ..."

इमेज कॉपीरइट Eros Entertainment

राजकुमार राव ने असल ज़िंदगी का अपना अनुभव भी बयां किया, "जब मैं पहली बार मुंबई आया और यहाँ फ्लैट्स में रहा, मेरे मन में ख़्याल आया कि अगर कुछ बुरा हुआ या फिर आग लगी तो कैसे बाहर निकलूंगा. सब इतने व्यस्त रहते हैं कि किसके साथ क्या हो रहा है, 40 मंज़िला बिल्डिंग में कुछ पता नहीं चलता.''

वो कहते हैं, ''इस फ़िल्म को देखकर लोग सोचेंगे कि हम किस तरह से रह रहे हैं. हम कुछ ज़्यादा ही व्यस्त हैं अपनी ज़िंदगी में, इधर-उधर क्या हो रहा है कुछ पता नहीं?"

'ट्रैप्ड' 17 मार्च को रिलीज़ होगी जिसे अंतरराष्ट्रीय फ़िल्म महोत्सव में पहले ही दिखाया जा चुका है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)