कभी थी जिसकी हीरोइन, अब बनेंगी उसकी मां

मदर इंडिया इमेज कॉपीरइट Mehboob Productions

'बॉम्बे', 'ख़ामोशी द म्यूज़िकल' और 'दिल से' जैसी फ़िल्मों के ज़रिए क्रिटिक्स से तारीफ़ पा चुकी अभिनेत्री मनीषा कोइराला अब पर्दे पर हिंदी सिनेमा की एक यादगार हीरोइन बनकर आ रही हैं.

अभिनेता संजय दत्त पर बन रही 'दत्त' नाम की बायोपिक में मनीषा संजय की मां नरगिस का किरदार निभाने जा रही हैं. नरगिस की मौत कैंसर से हुई थी. ख़ुद मनीषा इस बीमारी से जूझ चुकी हैं. इस फ़िल्म में नरगिस के किरदार को लेकर वो बेहद उत्साहित हैं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
मनीषा कोइराला

''नरगिस दत्त जी का किरदार निभाना किसी सपने जैसा है. ये मेरे लिए सम्मान की बात है. मेरे कंधों पर बड़ी ज़िम्मेदारी है. उम्मीद है मैं इस किरदार के साथ न्याय कर पाऊंगी. इस फ़िल्म के लिए राजू सर से मिलकर मुझे काफी खुशी हुई. उनके पास एक अच्छी टीम है और मेरे लिए ये एक शानदार मौका है.''

इमेज कॉपीरइट Manisha Facebook

मनीषा कोइराला संजय दत्त की हीरोइन बनकर कई फ़िल्मों में उनके साथ काम कर चुकी हैं. इनमें 'महबूबा', 'ख़ौफ़', 'बाग़ी' और 'कारतूस' जैसी फ़िल्में शामिल हैं. लेकिन संजय पर बन रही बायोपिक में वो उनकी हीरोइन नहीं बल्कि मां बन रही हैं.

''संजू बाबा मेरे बचपन का क्रश रहे हैं. मुझे उनके साथ कुछ फ़िल्मों में काम करने का मौका मिला. उनकी बहन प्रिया दत्त के लिए मेरे दिल में काफी इज़्ज़त है. हम दोनों कैंसर के मरीज़ों से जुड़े काम के सिलसिले में मिलते रहते हैं. मुझे बहुत अच्छा लगा उन्हें ये बताते हुए कि मैं उनकी मां नरगिस का किरदार निभाने जा रही हूं.''

नेपाल के राजनैतिक घराने से हीरोइन बनने, तलाक और फिर कैंसर से वापसी करने तक मनीषा कोइराला का अबतक का जीवन खुद एक फ़िल्म की कहानी जैसा रहा है. ऐसे में क्या मनीषा ख़ुद पर बायोपिक बनते देखना चाहती हैं.

वो कहती हैं, 'हां क्यों नहीं, मैं बिल्कुल अपनी बायोपिक बनते देखना चाहूंगी. पर अभी नहीं, उम्र लम्बी रही तो बीस साल बाद.'

इमेज कॉपीरइट Manisha Koirala

अपने रोल में वो आज की अभिनेत्रियों में से आलिया भट्ट या कंगना रनौट को पर्दे पर देखना चाहती हैं.

''आलिया भट्ट जितनी ख़ूबसूरत हैं, उतनी ही नैचुरल एक्टर भी हैं. उनके अलावा कंगना रनौट भी बहुत टैलेंटेड और मज़बूत इरादों वाली महिला हैं. ये दोनों मेरा किरदार अच्छी तरह निभा पाएंगी.''

1991 में फ़िल्म 'सौदागर' से हिंदी सिनेमा में कदम खने वाली मनीषा फ़िल्म 'बॉम्बे', 'ख़ामोशी द म्यूज़िकल' और 'कंपनी' के लिए तीन बार फिल्मफेयर क्रिटिक्स अवॉर्ड पा चुकी हैं. जितनी कामयाबी उन्हें कमर्शियल फ़िल्मों से मिली, रियलिस्टिक सिनेमा में भी वो उतनी ही पसंद की गईं.

हालांकि रियलिस्टिक फ़िल्मों में बिना मेकअप नज़र आने से उन्हें काफी डर लगता था.

इमेज कॉपीरइट Manisha Facebook

''मैं काफी इनसिक्योर थी कि मेकअप के बगैर मैं कैसी दिखूंगी. मुझे 2-3 घंटे के मेकअप के बाद स्क्रीन पर आने की आदत थी. ऐसे में जब रियलिस्टिक सिनेमा की बात आई तो मुझे कुछ समझ में ही नहीं आ रहा था. मैं चुपके से मेकअप लगा लेती थी. पर बाद में मेरी चोरी पकड़ी जाती थी और डायरेक्टर सब मेकअप निकलवा देते थे. बाद में जाकर मुझे समझ आया कि कुछ ख़ास तरह के सिनेमा के लिए मेकअप ज़रूरी नहीं.''

2012 में नेपाल के बिज़नेसमैन सम्राट दहल से मनीषा का तलाक हुआ था जिसके कुछ समय बाद ही उन्हें कैंसर होने का पता चला. मनीषा का इलाज न्यूयॉर्क के उसी हॉस्पिटल में हुआ जिसमें नरगिस दत्त का इलाज चला था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे