दंगल वाले आमिर को पहचान नहीं सका: अपारशक्ति खुराना

इमेज कॉपीरइट Studio talk PR

फ़िल्म दंगल के ओमकारा के किरदार ने अपारशक्ति खुराना पर अच्छा अभिनेता होने की मुहर लगा दी है.

कौन, नहीं पहचाना?

अपारशक्ति फ़िल्म दंगल में गीता और बबीता फोगाट के चचेरे भाई के किरदार में हैं.

अपारशक्ति ने दिल्ली में आठ सालों तक रेडियो, थिएटर, वॉयस ओवर का काम करने के बाद मुंबई का रूख़ किया और अपनी जगह बनाई है.

फ़िल्म रिव्यू- बॉक्स ऑफ़िस पर 'आमिर और छोरियों का दंगल'

इमेज कॉपीरइट AAMIR KHAN PRODUCTIONS

अपारशक्ति ने बीबीसी हिंदी को बताया, "फ़िल्म दंगल ने बहुत कुछ बदल दिया. लोगों का नज़रिया भी बदला लेकिन अब तो मैं भी अपने आप को सिरियसली लेता हूं."

आमिर ख़ान से अपनी पहली मुलाक़ात को याद कर में वे बताते हैं, "मैं उनके घर पहुंचा. उनका इंतज़ार करते हुए मैंने कुछ सेल्फ़ी ले ली, क्या पता फ़िर कब आना हो. तभी वहां एक बूढ़ा सा आदमी आया. उसे देख कर मैंने सोचा, इस बंदे को कहीं देखा है. कुछ देर बाद पता चला कि ये तो महावीर सिंह फोगाट के लुक में आमिर जी ख़ुद हैं. आमिर ख़ान इतने बड़े अभिनेता हैं लेकिन इगो कि जगह सादगी दिखती है. आप आधा गेम तो यूं ही जीत लेते हैं."

फ़िल्मफ़ेयर में 'दंगल' के सामने सब चित

इमेज कॉपीरइट Youtube

अपारशक्ति ने अपने बड़े भाई आयुष्मान खुराना के बारे में बताते हैं, "भैया 10वीं क्लास में पढ़ते थे और उन्होंने बहुत आत्मविश्वास से मंच पर अपनी लिखी कविता सुनाई थी. वैसे तो उसी दिन से मेरे दिमाग में उनकी एक परफॉर्मर की छवि अंकित हो गई. भैया जल्दी से ख़ुद को अभिव्यक्त नहीं करते. दंगल देखने बाद जिस तरह उन्होंने मुझे गले लगाया, उन्होंने बहुत कुछ कह दिया. वैसे दंगल में जब रोल मिलने की बात कनफर्म हुई तो सबसे पहले मैंने मेरी बीवी को बताया था, आख़िर लेडीलक भी काम करता है."

Image caption आयुष्मान खुराना

लेकिन आयुष्मान का रवैया हमेशा से ऐसा नहीं था. उन्होंने एक बार अपारशक्ति को दिल्ली वापस लौट जाने के लिए कह दिया था.

अपारशक्ति कहते हैं, "सात साल पहले मैं ट्रांस्फ़र लेकर मुंबई आया था, टीवी शो होस्टिंग का काम भी मिला. मुझे लगा सब सेट हो गया है. तभी भैया एक रात मुझे कहते हैं, तुम अभी इस शहर के लिए तैयार नहीं हो. वो चाहते थे मुझे दिल्ली जा कर और महेनत करनी चाहिए, स्पोर्ट्स पर भी ध्यान देना चाहिए. मैं दंग रह गया और घंटों रोता रहा. आख़िर मैंने उनकी बात मान ली और मुंबई के लिए होमवर्क करने वापस दिल्ली चला गया."

दंगल को फ़िल्म समीक्षकों ने कितने स्टार दिए हैं, देखिए कितनी धांसू है दंगल.

फ़िल्म दंगल में अपने रोल के बारे में वह कहते हैं, "दंगल में मेरे किरदार ओमकारा को खेल में इंट्रेस्ट नहीं था और मुझे भी जब क्रिकेट पर फोकस करना चाहिए था तब मैंने नहीं किया. लेकिन अगर युवराज सिंह की बायोपिक बनेगी तो मुझे उनका किरदार निभाने में कोई दिक़्क़त नहीं होगी."

फ़िल्म बद्रीनाथ की दुल्हनिया में अपारशक्ति केमिओ कर रहे हैं. अपारशक्ति कहते हैं कि एक्टिंग और शो होस्टिंग के अलवा वे गाने लिखते हैं, कंपोज़ करते हैं और गाते भी हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)