नेगेटिव रोल करना चाहती हैं रवीना

  • 8 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट Keshav Kadam PR

नब्बे की दशक की चुलबुली हीरोइन रवीना टंडन ने दशक के अंत तक आते-आते अपनी छवि पूरी तरह से बदल दी है.

फ़िल्म "शूल" ने रवीना टंडन को गंभीर अभिनेत्री के श्रेणी में डाला पर उस समय फ़िल्म के निर्माता राम गोपाल वर्मा नहीं चाहते थे रवीना टंडन "शूल" फ़िल्म की हीरोइन बने.

दिल्ली में रेप की घटनाओं पर क्या बोलीं रवीना

बीबीसी से ख़ास रूबरू हुई रवीना टंडन ने बताया.,"राम गोपाल वर्मा कहते थे कि रवीना तुम्हें मैं 'अंखियों से गोली मारे' वाली छवि में ही देखता हूँ. पर शूल फ़िल्म के निर्देशक ई निवास की ज़िद्द थी फ़िल्म में रवीना ही हीरोइन होगीं जिससे राम गोपाल वर्मा काफ़ी नाराज़ थे."

इमेज कॉपीरइट Keshav Kadam PR

उन्होंने बताया, "फ़िल्म की फोटो शूट में जब मैं सादी साड़ी पहलकर उनके ऑफिस पहुंची तो रामू ने लगभग मुझे अनदेखा कर दिया. मैं घबरा गई कि रामू मुझसे बहुत ख़फ़ा है पर फ़ोटो शूट के दौरान रामू को महसूस हुआ कि सादी साड़ी में मैं थी उन्हें यकीन ही नहीं हुआ. तब मुझे लगा की मैं गंभीर किरदार निभा सकती हूँ."

फ़िल्म दमन के लिए रवीना टंडन को राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला.

सितारों को भी डिप्रेशन होता है : रवीना टंडन

बड़े पर्दे पर अलग अलग किरदार निभाने वाली रवीना टंडन की लालसा है कि वो बड़े पर्दे पर बेहद नकारात्मक भूमिका निभाए पर अभी तक उन्हें मौका नहीं मिला है.

इमेज कॉपीरइट AFP

अपने 25 साल के फ़िल्मी करियर में रवीना ने फ़िल्मों से कई अंतराल लिए जिसका उन्हें कोई अफ़सोस नहीं है.

वो कहती है,"मैं 60 साल की उम्र में पहुँचकर ये नहीं कहना चाहती कि मैंने सिर्फ़ फ़िल्म स्टूडियो के चक्कर काटे और ज़िन्दगी नहीं जी. फ़िल्म मेरी ज़िन्दगी का हिस्सा है मेरी ज़िन्दगी नहीं."

इमेज कॉपीरइट Keshav Kadam PR

अपनी आगामी फ़िल्म "मातृ" में रवीना टंडन बलात्कार पीड़िता की माँ बनी है जो न्याय के लिए क़ानून की हदें पार करती हैं.

रवीना ने माना की भारत में महिलाओं के ख़िलाफ़ हो रहे अपराधों में बढ़ोतरी हुई है और ये बहुत ही गंभीर मामला है पर अभी तक इन अपराधों के लिए सख़्त क़ानून नहीं आए हैं.

सामाजिक मुद्दों पर अक्सर टिप्पणी करने वाली रवीना टंडन को राजनीति से परहेज़ है.

उनका मनना है कि किसी राजनीतिक पार्टी से जुड़ जाने से उन्हें अपनी आवाज़ दबानी पड़ेगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे