सुरों के सरताज सचिन देव बर्मन
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

सुरों के सरताज सचिन देव बर्मन

यह बर्मन दादा की ख़ासियत मानी जाती है कि उन्होंने फ़िल्म संगीत में अपनी धुनों से एक 'बर्मन युग' की शुरुआत की.

उनकी धुनें एक तरफ बंगाल के भक्ति संकीर्तन और भटियाली लोकधुनों से उठकर आती थीं.

बीबीसी की ख़ास सिरीज़, 'संग-संग गुन-गुनाओगे'कला समीक्षक यतींद्र मिश्र की प्रस्तुति.

सिरीज़ के प्रस्तुतकर्ता हैं मोहन लाल शर्मा.

मिलते-जुलते मुद्दे