रंगमंच से घर नहीं चल सकता : रजित कपूर

  • 11 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट 1H media

90 के दशक में टीवी के ब्योमकेश बक्शी बनकर लोगों को लुभाने वाले अभिनेता रजित कपूर अब बड़े पर्दे पर छोटे मोटे किरदार निभाते नज़र आते है.

शुरुआती दौर से ही रंगमंच में सक्रिय रजित कपूर का कहना है कि रंगमंच उनके दिल के करीब है पर रंगमंच से किसी का घर नहीं चल सकता.

बीबीसी से ख़ास रूबरू हुए रजित कपूर ने कहा,"रंगमंच से आपका गुज़ारा नहीं चल सकता. आपकी रसोई नहीं चल सकती. 25 साल पहले भी यही हाल था और आज भी यही हाल है कुछ नहीं बदला है."

उनका कहना था, "पूरी दुनिया में रंगमंच में काम करने वालों की कमाई बेहद कम है इसलिए रंगमंच के साथ साथ कमाई का दूसरा ज़रिया भी होना ज़रूरी है."

इमेज कॉपीरइट DD National
Image caption टीवी सीरियल ब्योमकेश बक्शी का एक दृश्य

रजित कपूर ने करीबन 20 साल तक रंगमंच में कम कमाई के कारण कपड़ों के निर्यात आयात के कारोबार से अपना गुज़ारा चलाया.

रंगमंच की खस्ता हालत के बारे में अपनी राय देते हुए रजित आगे कहते हैं,"भारत में लोग रंगमंच का आदर नहीं करते और इससे जुड़े अभिनेताओं को नौटंकीबाज़ मानते हैं."

रजित का ये भी मानना है कि भारत में लोग रंगमंच को हेय भावना से देखते है जबकि ये अभिनय का सबसे कठिन माध्यम है.

लेकिन वो ये भी मानते हैं कि अब रंगमंच के अभिनेताओं को हिंदी फ़िल्मों में जगह मिल रही है और टीवी और दूसरे माध्यम से अभिनेताओं का अच्छा गुज़ारा चल रहा है.

विद्या बालन की फ़िल्म 'बेगम जान' में सरकारी अधिकारी के किरदार में नज़र आएंगे रजित कपूर. यह फ़िल्म 14 अप्रैल को रिलीज़ होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे