हंसी-मज़ाक से गंभीर मुद्दों पर बात करती ये वेब सिरीज़

गुल पनाग इमेज कॉपीरइट filter copy and festivelle

अब मनोरंजन ऐसे बदल रहा है कि हर किसी के पास अपना एक स्क्रीन है जहाँ आप तय करेंगे कि क्या देखना है. धीरे-धीरे ही सही अब बहुत ज़्यादा लोग इंटरनेट के माध्यम से मनोरंजन का ज़रिया बदल रहे हैं.

इंटरनेट पर बहुत सी वेब सिरीज़ और छोटे-छोटे वीडियो आ रहे हैं. ये वेब सीरीज़ अलग अलग तरह की हैं. कुछ आपको गुदगुदाएंगी तो कुछ आपको सोचने पर मजबूर करेंगी. आइए चलें इंटरनेट की दुनिया में.

पहली बातचीत में ही पूछा जा रहा- सेक्स किया है?

भारत में सेक्स टॉय का कारोबार कितना आसान?

कहीं आप वर्चुअल सेक्स के आदी तो नहीं!

समाज की सोच को बदलती वेब सिरीज़

हाल के कुछ समय में जो वेब सिरीज़ मशहूर हुई हैं, उनमें शामिल हैं 'लिट्ल थिंग्स', 'सेक्स चैट विद पप्पू एंड पापा', 'गर्ल इन द सिटी', 'द अदर लव स्टोरी' , 'पर्मानेंट रूम मेट्स', 'बेक्ड' और 'द ट्रिप'. इनकी कहानियों के क़िरदार ज़्यादातर जवान लोग हैं.

द अदर लव स्टोरी

ये कहानी है दो लड़कियों के बीच प्रेम की. इस कहानी से आपको पता चलेगा कि क्या-क्या दिक्कतें हैं जिनका सामना समलैंगिक लोगों को करना पड़ता है.

इमेज कॉपीरइट JLT films

जेएलटी फ़िल्म्स की 'द अदर लव स्टोरी' की निर्देशक रूपा राय कहती हैं, ''हर कहानी लिए अब एक नया माध्यम है . इंटरनेट एक ऐसा माध्यम है जहाँ आपको उतनी रोक टोक नहीं, सेंसरशिप नहीं. हम कोई बदलाव नहीं लाना चाहते थे लेकिन हमें लगा कि इस बारे में बात होनी चाहिए.''

उन्होंने कहा, ''यह एक कहानी है जिसको लोगों तक पहुँचाना चाहिए. कहानी जिसे बताने से लोग कतराते हैं. मैं ये कहानी कुछ टीवी निर्माताओं के पास लेकर गई लेकिन मुझे ना कर दिया गया.''

तो क्या कलाकारों को ऐसा लगता है कि उनकी ऑडियन्स में कमी होगी?

'द अदर लव स्टोरी' की मुख्य अभिनेत्रियों में से एक श्वेता गुप्ता कहती हैं कि उन्हें इस सिरीज़ की कहानी एक सामान्य कहानी लगी. उन्होंने कहा, "ये एक प्यार की कहानी है. अगर मुद्दा या कहानी रोचक हो तो लोगों को पसंद आएगी.''

उन्होंने कहा, ''हालांकि दर्शक उतने नहीं जितने टीवी पर हैं, पर हर माध्यम के दर्शक होते हैं. हमें बहुत लोगों को प्यार मिला. बल्कि ऐसे लोग हमारे बारे में जानते हैं जो दूसरे देश के हैं. एक कलाकार के रूप में मैंने वो क़िरदार निभाया जिसे दूसरे लोग निभाने से हिचक रहे थे."

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
समाज सोच को बदलती वेब सीरीज़

जहाँ अलग-अलग लोग वेब सीरीज़ के ज़रिए अपनी कहानी बता रहे हैं तो यश राज फ़िल्म भी इस गिनती में शामिल हुआ. कुछ वक़्त पहले यश राज फ़िल्म्स के 'वाय फ़िल्म्स' ने एक वेब सिरीज़ शुरू की जिसका नाम है 'सेक्स टॉक्स विद पप्पू एंड पापा'. ये एक हास्य युक्त तरीका है कहानी बताने का.

इस कहानी में ये दिखाया गया है कि किस तरह आप बच्चों से सेक्स जैसे मुद्दों पर बात करें. ये वेब सिरीज़ इस मुद्दे को छूता है मगर मज़ेदार तरीके से.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK- Y films

छोटे वीडियो

आजकल एक अलग तरह की सिरीज़ आ रही है जिसमें थीम एक होता है लेकिन कहानी अलग अलग. 'फ़िल्टर कॉपी' और 'फैस्टिवेल' ऐसे ही वीडियो हैं जिनमें गुल पनाग और श्रुति सेठ हैं.

इसमें आपको देखने को मिलेगा कि किस तरह से औरतें बोलना कुछ चाहती हैं और समाज से हिचक के कारण कह कुछ और जाती हैं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
एक सिरीज़ जिसमें थीम एक लेकिन मुद्दा और कहानी अलग-अलग

गुल पनाग के मुताबिक, "अगर किसी गंभीर मुद्दे को हंसी मज़ाक से बताओ तो संदेश और अच्छे तरीके से लोगों तक पहुंचता है. जहाँ तक वेब सिरीज़ की बात है तो लोग अब एक समय पर दो तीन काम करते हैं तो मल्टिटास्किंग होती है.''

उन्होंने, ''और उसमें लोग मनोरंजन के लिए छोटे-छोटे वीडियो देखते हैं. कभी मीटिंग के बीच तो कभी फ़ोन पर बात करते हुए. टीवी पर जो कार्यक्रम आते हैं वो एक निर्धारित समय पर आते हैं, लेकिन इंटरनेट पर अपनी मर्ज़ी से देखो."

इमेज कॉपीरइट filter copy

इंटरनेट पर अब सोशल मीडिया के लिए छोटे वीडियो बनते हैं जो एक या दो मिनट से ज़्यादा लंबे नहीं होते.

आख़िर इस भाग-दौड़ भरी दुनिया में मनोरंजन की नई जगह बनाने की ख़ूब कोशिश हो रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे