स्नाइपर ने आईएस चरमपंथी को 3.5 किलोमीटर दूर से मार गिराया

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अफ़ग़ानिस्तान में कनाडा की एक स्नाइपर टीम

इराक़ में कनाडा की स्पेशल फ़ोर्स के एक स्नाइपर ने इस्लामिक स्टेट के एक चरमपंथी को 3.5 किलोमीटर दूर से मार गिराया.

सेना के सूत्रों ने टोरंटोज़ ग्लोब और मेल अख़बार को बताया है कि वह बंदूकधारी जॉइंट टास्क फ़ोर्स-2 का सदस्य है और पिछले महीने उन्होंने एक ऊंची इमारत से यह निशाना लिया था.

चरमपंथी ठीक 3540 मीटर दूर था और ख़बरों के मुताबिक, ट्रिगर दबाने के बाद उस तक गोली पहुंचने में दस सेकेंड लगे.

कनाडा के स्पेशल ऑपरेशंस कमान ने बीबीसी से पुष्टि की है कि स्नाइपर ने काफ़ी दूर से सफल निशाना साधा.

अख़बार ने सूत्रों के हवाले से लिखा है कि इसे सबसे लंबी दूरी से मार गिराने का रिकॉर्ड माना जा रहा है.

पढ़ें: क्या होता है स्नाइपर?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'बम गिराते तो आम लोगों की जान को ख़तरा होता'

निशानेबाज़ ने कनाडाई सेना की मैकमिलन टीएसी-50 राइफ़ल से यह कारनामा किया. वह एक ऑब्ज़र्वर के साथ काम कर रहा था जो लक्ष्य पहचानने में मदद करते हैं.

सेना के एक सूत्र ने अख़बार से कहा, 'इस शॉट ने इराक़ी सुरक्षा बलों पर कथित इस्लामिक स्टेट के एक हमले को बाधित कर दिया.'

सूत्र ने कहा, 'अगर वहां बम गिराया जाता तो इलाक़े में आम लोग भी मर सकते थे. इसलिए ऐसे मौकों पर सुरक्षा बल स्नाइपर का इस्तेमाल करते हैं और चूंकि वह काफ़ी दूर था तो बुरे लोगों को कोई अंदाज़ा नहीं था कि क्या होने वाला है.'

यह निशाना कितना मुश्किल था, इसे बताते हुए सूत्र ने कहा कि इसके लिए शूटर को हवा, बैलिस्टिक्स और यहां तक कि पृथ्वी की गोलाई का ख़्याल रखते हुए निशाना लगाना था.

सेना के जानकार इसे एक रिकॉर्ड मान रहे हैं.

इससे पहले सबसे यह रिकॉर्ड ब्रिटिश स्नाइपर क्रेग हैरिसन के नाम था, जिन्होंने 2009 में अपनी 338 लापुआ मैग्नम राइफ़ल से 2475 मीटर की दूरी से एक तालिबान हमलावर को मार गिराया था.

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने पिछले साल कथित इस्लामिक स्टेट पर हवाई हमले बंद करने का फैसला लिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे