'इंटरकोर्स' शब्द पर जनता में वोटिंग चाहते हैं पहलाज़ निहलानी

इमेज कॉपीरइट Facebook/RedChilliesEnt

सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष पहलाज़ निहलानी के इम्तियाज़ अली की अगली फिल्म 'जब हैरी मैट सेज़ल' के एक प्रोमो पर आपत्ति जताने से एक नया विवाद खड़ा हो गया है.

निहलानी ने शाहरुख खान और अनुष्का शर्मा की फ़िल्म के प्रोमो में 'इंटरकोर्स' शब्द पर आपत्ति जताई है.

मैं प्रधानमंत्री का चमचा हूँ: निहलानी

सेक्स की सेल्फ़ी वाली फ़िल्म पर निहलानी के तर्क

टीवी चैनलों से बात करते हुए निहलानी ने कहा कि अगर ये एक पारिवारिक फ़िल्म है तो इसमें इस शब्द का क्या मतलब है.

इमेज कॉपीरइट Facebook/RedChilliesEnt

लोग वोटिंग करें तो पास करूंगा फ़िल्म

निहलानी ने मिरर नाउ से बात करते हुए कहा है कि अगर देश की जनता इस शब्द के फ़िल्म में रहने पर सहमति जताए तो वह फ़िल्म को पास कर देंगे.

उन्होंने कहा कि अगर एक लाख लोग भी समर्थन में मतदान करते हैं तो वह पूरी फ़िल्म को पास कर देंगे.

'उड़ता पंजाब' के साथ इंडस्ट्री, निहलानी निशाने पर

'बॉन्ड के किसिंग सीन निहलानी ने काटे'

सोशल मीडिया पर जारी विरोध

अभिनेता और स्टेंडअप कॉमेडियन वीर दास ने ट्विटर पर लिखा, "बच्चों, जब आपके मम्मी-पापा ने बिस्तर पर जाकर कुछ संस्कारी काम किया तब आप पैदा हुए. कोई इंटरकोर्स नहीं हुआ. अपने बायलॉज़ी टीचर को जाकर ये बताना."

इमेज कॉपीरइट TWITTER

वहीं, एक ट्विटर यूज़र कहते हैं कि आप इसे ट्वीट कर सकते हैं, वोट कर सकते हैं लेकिन कह नहीं सकते.

एक अन्य ट्विटर यूज़र कहते हैं कि भारत की जनसंख्या जल्द ही दुनिया में सबसे ज़्यादा होने जा रही है और फिर भी हम फ़िल्म में इसे इस्तेमाल नहीं कर सकते. ये सिर्फ़ भारत में हो सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे