किसने काजोल से झूठ बोला?

इमेज कॉपीरइट Dhanush

जब अभिनेता धनुष और निर्देशक सौंदर्या रजनीकांत काजोल के पास तमिल फ़िल्म का प्रस्ताव लेकर गए तो उन्होंने कहा कि काजोल को तमिल नहीं बोलनी पड़ेगी. लेकिन काजोल जब फ़िल्म सेट पर पहुँची तो हुआ कुछ उल्टा.

मेन्यू में भैंस का मीट था गाय का नहीं: काजोल

बॉलीवुड में असहिष्णुता जैसी चीज़ नहीं: काजोल

काजोल जो बीस साल बाद तमिल फ़िल्म में नज़र आएँगी. उन्होंने बताया, "अभिनेता धनुष और निर्देशक सौंदर्या मेरे पास 'वेलाईयिल्ला पत्तथरी 2' यानी वीआईपी 2 की कहानी लेकर आए तो मुझे कहा कि तमिल नहीं बोलनी होगी. मुझे झूठ बोला और मैं मान गई. लेकिन जब सेट पर पहुँची तो तमिल में डायलॉग पढ़ने के लिए पन्ने दे दिए . मुझे कहा कोशिश करो."

इमेज कॉपीरइट Dhanush

काजोल ने बताया कि वो इस रोल को हां करने से पहले मैं थोड़ी नर्वस थी.

काजोल ने बताया, "किसी और भाषा में रोल निभाना कोई आसान बात नहीं. मुझे तो होमवर्क मिलता था कि मुझे रोज़ असिस्टेंट डायरेक्टर के साथ दो घंटे बिताने होते थे."

काजोल ने कहा, "कहीं ना कहीं आप जब किसी और भाषा मे अभिनय निभाते हो तो आप डायलॉग पर इतना ध्यान देते हो कि आप अपने हाव भाव पर ध्यान नहीं दे पाते और कहीं ना कहीं आप अपने आप से धोखा कर रहे होते हो."

फ़िल्म 'वेलाईयिल्ला पत्तथरी 2' की निर्देशक रजनीकांत की बेटी सौंदर्या रजनीकांत हैं और रजनीकांत के दामाद धनुष उसमें अभिनेता.

कुछ ऐसी भी खबरें आईं कि काजोल इसमें एक विलेन बनीं हैं और उनका रोल फ़िल्म 'गुप्त' के किरदार से मिलता जुलता है . इस पर धनुष ने कहा, "काजोल का किरदार बेशक अलग है और बहुत सी बातों पर उनके एक जैसी सोच नहीं लेकिन गुप्त के किरदार जैसा नही."

इमेज कॉपीरइट M. Balasubramanian

ये कजोल की दूसरी तमिल फ़िल्म है. इनकी पहली तमिल फ़िल्म आज से बीस साल पहले आई थी.

फ़िल्म का नाम था 'मिनसारा कनावू', जिसमें इनके साथ थे अरविंद स्वामी और प्रभु देवा. इस फ़िल्म का हिन्दी में नाम था- सपने. इस फ़िल्म के गाने जैसे 'चंदा रे ' और 'आवारा भंवरे' बड़े लोकप्रिय हुए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे