किशोर कुमार: अगर आप ना होते, तो इतने स्टार ना बनते

4 अगस्त, 1929 को जन्मे किशोर कुमार भारत के सबसे कामयाब सिंगर माने जाते हैं.

मध्य प्रदेश के खांडवा में जन्में किशोर कुमार ने महज 58 साल की ज़िंदगी में वो मुकाम हासिल किया, जहां से वे अपनी मौत के तीन दशक के बाद भी लोगों के दिलों में बने हुए हैं.

हालांकि किशोर कुमार को बॉलीवुड में ब्रेक मिलने का वाक़या बड़ा दिलचस्प है.

गाने का पहला ब्रेक मिलने के बारे में किशोर कुमार ने ख़ुद बताया था कि जब वो मशहूर संगीतकार एसडी बर्मन से मिले तो अशोक कुमार उर्फ दादा मुनि ने उन्हें बताया था कि मेरा भाई भी थोड़ा-थोड़ा गा लेता है.

सुनिए- कैसे मिला किशोर कुमार को ब्रेक

उन्होंने बताया, "एसडी बर्मन ने मेरा नाम पूछा और कोई गाना गाने को कहा. इस पर मैंने उस समय का उनका ही गाया हुआ, एक मशहूर बंगाली गाना गाया. मेरा गाना सुनकर वो बोले- अरे यह तो मुझे ही कॉपी कर रहा है. मैं इसे निश्चय ही गाने का मौक़ा दूंगा. मैं तो सोच भी नहीं सकता था कि सचिन दा मुझसे गाना गवाएंगे."

इमेज कॉपीरइट Amit kumar

गानों में जान डाल देने का हुनर

संगीतकार जतिन-ललित की जोड़ी के ललित कहते हैं, "गानों में मस्ती का एक्सप्रेशन बहुत मुश्किल से आता है. लेकिन किशोर दा के साथ वह नेचुरली आ जाता था. उनके गानों में इतना एक्सप्रेशन सुनाई देता था, जो हम कर नहीं पाते हैं."

सुनिए- किशोर कुमार से सावधान

वो कहते हैं- "उनके संगीत की समझ इतनी अधिक थी कि अगर संगीतकार थोड़ी खराब धुन लेकर आए तो वो उसमें इतनी जान फूंक देते थे कि वो गाना अमर हो जाता था. किशोर कुमार का सेंस ऑफ ह्यूमर ऐसा था कि उनके बारे में कुछ भी अनुमान नहीं लगाया जा सकता था कि उनका अगला क़दम क्या होगा."

ललित ने बताया कि एक बार किशोर कुमार किसी हाइवे पर फ़िल्म की शूटिंग कर रहे थे. निर्देशक ने समझाया था कि 'आपको गाड़ी में बैठकर आगे जाने और इसके बाद शॉट कट हो जाएगा.'

इमेज कॉपीरइट KIRAN SHANTARAM
Image caption किशोर कुमार और वी शांताराम

जिनके लिए गाया, वो अमर हो गए

ललित बताते हैं- "इसके बाद किशोर कुमार गाड़ी में बैठे और निकल गए. इसके बाद निर्देशक इंतजार करता रहा कि किशोर दा कब लौटकर आएंगे. बाद में पता चला कि वो गाड़ी से खंडाला जाकर वहां सो गए थे. किशोर कुमार कहा करते थे कि अगर ये गाना वो गाएंगे तो वह गाना निश्चित रूप से हिट हो जाएगा. किशोर कुमार को ख़ुदा ने ऐसी आवाज दी थी कि हमें आज तक उनकी बुरी आवाज सुनने को नहीं मिली.

वो ये भी कहते हैं कि राजेश खन्ना जितने बड़े एक्टर बने और जितने बड़े सुपर स्टार बने, उसमें बहुत बड़ा हाथ किशोर कुमार का था.

किशोर कुमार ने जिन हीरो के लिए गाया, वो अमर हो गए. अब इससे आप अनुमान लगा सकते हैं कि किशोर कुमार क्या थे.

इमेज कॉपीरइट MOHAN CHURIWALA
Image caption देवानंद और किशोर कुमार

हॉलीवुड के शौकीन

गीतकार जावेद अख़्तर कहते हैं, "महान लोग समय के साथ-साथ और महान होते जाते हैं, क्योंकि आप यह अनुभव करते हैं कि वो कैसे काम करते हैं. यही चीज किशोर कुमार के साथ भी हुई. उनकी इमेज भी समय के साथ बड़ी होती गई और उनके न रहने पर भी लोग इसे महसूस करते हैं."

सुनिए- बीबीसी एक मुलाक़ात

जावेद अख़तर कहते हैं, "मैंने कई ऐसे नए संगीत निर्देशकों के साथ काम किया है, जिन्हें किशोर कुमार से मिलने तक का मौका नहीं मिला है. लेकिन मैंने कई बार उन्हें यह कहते हुए सुना है कि काश किशोर कुमार इस गाने को गाने के लिए ज़िंदा होते."

किशोर के बेटे अमित कुमार कहते हैं कि उनके पिता को हॉलीवुड की फ़िल्में देखना बहुत पसंद था. एक बार वो अमरीका गए तो आठ हज़ार डॉलर की फ़िल्मों के कैसेट ख़रीद कर लाए.

इमेज कॉपीरइट BRHMANAND SINGH

अमित कुमार ने बताया कि जब वो कलकत्ता से मुंबई आते थे तो वो और किशोर कुमार वीकएंड पर जाकर एक दिन में फ़िल्मों के तीन-तीन शो देखकर आते थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे