ऑस्कर में स्लमडॉग मिलियनेयर की गूंज

स्लमडॉग
Image caption स्लमडॉग मिलियनेयर को बाफ्टा और गोल्डन ग्लोब पुरस्कार भी मिल चुके हैं

मुंबई की झुग्गियों की पृष्ठभूमि पर बनी स्लमडॉग मिलियनेयर ऑस्कर पुरस्कारों में छा गई है. इसे सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म और निर्देशक समेत कुल आठ ऑस्कर मिले हैं.

81 वें ऑस्कर समारोहों में स्लमडॉग मिलियनेयर को सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म चुना गया है.

निर्देशक डैनी बॉयल को इस फ़िल्म के लिए सर्वश्रेष्ठ निर्देशक चुना गया. बॉयल ने अपने भाषण में फ़िल्म के प्रोड्यूसर वार्नर ब्रदर्स के साथ साथ उस व्यक्ति का भी धन्यवाद किया जिसने फ़िल्म के अंत में नृत्य निर्देशन किया था.

बॉयल का कहना था कि इस फ़िल्म ने मुंबई के साथ उनका क़रीबी संबंध बना दिया है.

भारतीय संगीतकार अल्लारक्खा रहमान को स्लमडॉग मिलियनेयर के संगीत और गीत जय हो के लिए दो ऑस्कर मिले.

इसी फ़िल्म के लिए भारत के रसूल पोकुट्टी को साउंड मिक्सिंग वर्ग में ऑस्कर मिला. हालांकि ये पुरस्कार उन्हें इयान रैप, माइकल सेमानिक के साथ दिया गया.

पोकुट्टी ने अवार्ड लेते हुए कहा कि यह अवार्ड भारत को समर्पित है.

रहमान को सर्वश्रेष्ठ संगीत और सर्वश्रेष्ठ गीत जय हो के लिए यह अवार्ड दिया गया.

रहमान ने इस फ़िल्म का लोकप्रिय गीत जय हो गुलज़ार के साथ लिखा था.

रहमान ने अवार्ड लेने के बाद कहा कि यह अवार्ड मुंबई के लोगों के लिए है और इस फ़िल्म की मूल भावना को समर्पित है जो उम्मीद है.

मुंबई की पृष्ठभूमि पर बनी फ़िल्म स्लमडॉग मिलियनेयर को सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म,निर्देशक, सर्वश्रेष्ठ संगीत,गीत, फ़िल्म संपादन, साउंड मिक्सिंग, रुपांतरित स्क्रीनप्ले और सिनेमेटोग्राफ़ी के लिए आठ ऑस्कर मिले.

स्लमडॉग मिलियनेयर के संपादन के लिए क्रिस डिकन्स को ऑस्कर पुरस्कार से सम्मानित किया गया है.

स्लमडॉग मिलियनेयर के रुपांतरित स्क्रीनप्ले के लिए साइमन ब्यूफ़ॉय और सिनेमेटोग्राफ़ी के लिए एंथनी डॉड मैंटल को ऑस्कर मिला है.

स्लमडॉग के लिए एंथनी की सिनेमेटोग्राफ़ी को काफ़ी सराहा गया था और अपने भाषण में उन्होंने निर्देशक डैनी बॉयल का विशेष धन्यवाद किया.

स्लमडॉग मिलियनेयर के रुपांतरित स्क्रीनप्ले के लिए साइमन ब्यूफॉय को भी ऑस्कर मिला.

यह फ़िल्म विकास स्वरूप की पुस्तक क्यू एंड ए पर बनी है. फ़िल्म के लिए रुपांतरित स्क्रीनप्ले साइमन ब्यूफॉय ने लिखा था.

अपने भाषण में ब्यूफॉय ने कहा कि यह अवार्ड भारत के लिए है जहां जाकर उन्होंने जीवन के बारे में बहुत कुछ सीखा है.

इससे पहले डॉक्यूमेंट्री वर्ग में उत्तर प्रदेश के मिर्ज़ापुर की पिंकी की कहानी पर बनी स्माइल पिंकी को भी ऑस्कर मिला है.

लघु डॉक्यूमेंट्री वर्ग में स्माईल पिंकी को सर्वश्रेष्ठ डॉक्यूमेंट्री का अवार्ड मिला है. यह डॉकयूमेंट्री मिर्ज़ापुर की रहने वाली पिंकी पर आधारित थी जिसके होंठ कटे हुए थे जिन्हें ऑपरेशन के बाद ठीक किया गया.

अन्य पुरस्कार

Image caption बॉयल को इसी फ़िल्म के लिए गोल्डन ग्लोब भी मिल चुका है

इस बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का ऑस्कर पुरस्कार मिला केट विंसलेट को उनकी फ़िल्म द रीडर के लिए.

केट छठी बार ऑस्कर के लिए नामांकित हुई थी और ये उनका पहला ऑस्कर है.

सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार दिया गया फ़िल्म मिल्क के लिए शॉन पेन को. मिल्क में उनके समलैंगिक व्यक्ति की भूमिका के लिए यह सम्मान मिला है.

हॉलीवुड़ अभिनेता हीथ लेजर को मरणोपरांत सर्वश्रेष्ठ सह अभिनेता का ऑस्कर मिला है.

लेजर को उनकी फ़िल्म द डार्क नाइट में जोकर की नकारात्मक भूमिका के लिए यह सम्मान दिया गया है. लेजर का पुरस्कार उनके पिता ने स्वीकार किया.

इस वर्ष सर्वश्रेष्ठ सह अभिनेत्री के लिए पनेलेपी क्रूज़ को ऑस्कर मिला.

पनेलेपी को उनकी फ़िल्म विकी क्रिस्टिना बारसिलोना के लिए सर्वश्रेष्ठ सह अभिनेत्री का ऑस्कर पुरस्कार मिला है.

पुरस्कार लेने के बाद उन्होंने कहा कि कला दुनिया को एक रखने का सर्वोत्तम माध्यम है. उन्होंने अपने भाषण का आखिरी हिस्सा अपनी मातृभाषा स्पैनिश में सुनाया.

अमरीका में समलैंगिकों के मुद्दे पर बनी फ़िल्म मिल्क के स्क्रीनप्ले लिए डस्टिन लांस ब्लैक को ऑस्कर पुरस्कार से नवाज़ा गया है.

13 वर्गों में नामांकित हुई ''द क्यूरियस केस ऑफ बेंजामिन बटन'' को सेट डिज़ाइन और कला निर्देशन के लिए ऑस्कर पुरस्कार दिया गया है.

द डचेस को वेशभूषा यानी कॉस्ट्यूम के लिए ऑस्कर मिला है. कॉस्ट्यूम डिज़ाइनर थे माइकल ओ कॉनर.

सर्वश्रेष्ठ मेकअप के लिए भी द क्यूरियस केस ऑफ बेंजामिन बटन को ऑस्कर मिला है. मेकअप करने वाले थे ग्रेग कैनॉम. यह कहानी एक ऐसे व्यक्ति की है जो वृद्ध से जवान होता जाता है.

भारत के मुंबई शहर पर बनी फ़िल्म स्लमडॉग मिलियनेयर को इस बार दस वर्गों में नामांकन मिला था जिसमें से फ़िल्म को आठ ऑस्कर मिले.

इससे पहले स्लमडॉग को बाफ्टा और गोल्डन ग्लोब सहित कई और अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुके हैं.

स्लमडॉग मिलियनेयर के निर्देशक डैनी बॉयल फ़िल्म के कई कलाकारों के साथ कोडेक थिएटर पहुंचे थे. इनमें मुंबई की झुग्गियों में रहने वाले वो दो बच्चे भी हैं जिन्होंने इस फ़िल्म में महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभाई हैं.

संबंधित समाचार