पुलित्ज़र विजेता अपडाइक का निधन

जाने माने लेखक और दो बार प्रतिष्ठित पुलित्ज़र पुरस्कारजीत चुके जॉन अपडाइक का अमरीका में 2009 के शुरुआत में निधन हो गया.

वो 76 वर्ष के थे. अपडाइक को फेफड़े का कैंसर था.

जॉन अपडाइक की रैबिट इज़ रिच और रैबिट एट रेस्ट को दुनिया भर में पसंद किया गया था. उन्होंने अपने करियर में पचास से अधिक पुस्तकें लिखीं और कई अवार्ड मिले.

उनकी रैबिट ट्रायलॉजी की दो किताबें अत्यंत लोकप्रिय रहीं जबकि रैबिट एट रन को कम लोगों ने पसंद किया था लेकिन अपडाइक का नाम हमेशा ही रैबिट ट्रायलॉजी के लिए लिया जाता रहा है.

अपडाइक को न केवल दो बार अमरीका का प्रतिष्ठित पुलित्ज़र पुरस्कार मिला बल्कि उन्हें दो बार नेशनल बुक अवार्ड भी दिया गया.

उन्होंने कविताएं, आलोचना, उपन्यास और छोटी कहानियां लिखी हैं. युद्ध के बाद के अमरीका में अपडाइक ने सेक्स, तलाक और छोटे शहरों के जीवन को मुद्दा बनाकर लेखन कार्य किया जिन्हें अमरीका में ही नहीं पूरी दुनिया में पसंद किया गया.

साहित्यिक आलोचक अपडाइक को बेहतरीन लेखक का दर्जा देते हैं और मानते हैं कि उन्होंने अपनी पीढ़ी के मुद्दों को बेहतरीन आवाज दी.

संबंधित समाचार