श्रेयस की इंग्लिश फ़िल्म 'द हैंगमैन'

श्रेयस तलपडे
Image caption 'द हैंगमैन' श्रेयस तलपडे की पहली इंग्लिश फ़िल्म है.

श्रेयस तलपडे ने बॉलीवुड में शुरुआत 2005 में नागेश कुकनूर की फ़िल्म ‘इक़बाल’ से की थी लेकिन ये शायद बहुत कम लोग जानते होंगे कि वो उनकी पहली फ़िल्म नहीं थी. श्रेयस की पहली फ़िल्म ‘द हैंगमैन’ थी.

श्रेयस ने बीबीसी को एक बातचीत में बताया कि द हैंगमैन की शूटिंग 2004 में हुई थी लेकिन उस समय वो रिलीज़ नहीं हो पाई थी. ‘द हैंगमैन’ श्रेयस की पहली इंग्लिश फ़िल्म है.

फ़िल्म के बारे में श्रेयस कहते हैं, “इसकी ख़ास बात ये है कि फ़िल्म और मेरा किरदार बहुत ही संवेदनशील है. हाल ही लोगों ने मुझे कॉमेडी करते ज़्यादा देखा है लेकिन द हैंगमैन में बहुत संजीदा किरदार है.”

‘द हैंगमैन’ की कहानी एक जल्लाद और उसके बेटे की है. वो जल्लाद अपने बेटे को पढ़ाना चाहता है. विशाल भंडारी ने इस फ़िल्म का निर्देशन किया है.

Image caption द हैंगमैन में ओम पुरी ने हैंगमैन की भूमिका निभाई है.

अपने किरदार के बारे में श्रेयस कहते हैं, “मैं इस फ़िल्म को अपनी अब तक की अपनी सबसे बेहतरीन फ़िल्म तो नहीं कहूंगा लेकिन इसके लिए मैंने बहुत मेहनत की है.”

श्रेयस कहते हैं, “मेरा किरदार गांव से शहर, स्कूल से कॉलेज पहुंचता है. शहर और कॉलेज में उसके साथ क्या-क्या होता है, किस तरह वो बुरी संगत में पड़ जाता है और फिर बाहर आता है, ऐक्टिंग के लिहाज़ से काफ़ी कुछ था करने के लिए.”

ओम पुरी इस फ़िल्म में टाइटिल रोल में हैं.

श्रेयस खु़द को ख़ुशकिस्मत मानते हैं कि अपनी पहली ही फ़िल्म में उन्हें ओम पुरी के साथ काम करने का मौका मिला.

वो कहते हैं, “मैं थोड़ा नर्वस और डरा हुआ था. लेकिन ओम जी ने ऐक्टिंग के बारे में मुझे बहुत अच्छी टिप्स दी थीं. वो एक बहुत बढ़िया इंसान हैं.”

फ़िल्म में श्रेयस तलपडे और ओम पुरी के अलावा गुलशन ग्रोवर और स्मिता जयकर भी हैं.

श्रेयस तलपडे को उम्मीद है कि द हैंगमैन दर्शकों को पसंद आएगी.

वो कहते हैं, “आज लोग नये विषयों पर फ़िल्में देखना पसंद करते हैं. ये एक जल्लाद, उसके परिवार और उसके बेटे की अनूठी कहानी है. जिनको नयापन और अच्छी कहानी चाहिए, वो ज़रुर इस फ़िल्म को देखना पसंद करेंगे.”

संबंधित समाचार