कम फ़िल्मों का निर्देशन ही पसंद: फ़राह

फ़राह ख़ान
Image caption फ़राह ख़ान इन दिनों अपनी नई फ़िल्म 'तीस मार ख़ान' के निर्देशन में व्यस्त हैं

छह वर्षों में सिर्फ़ दो ही फ़िल्मों का निर्देशन करने वाली फ़राह ख़ान कहती हैं कि उन्हें कम फ़िल्में करना ही पसंद है.

फ़राह ने अब तक सिर्फ़ दो फ़िल्में-‘मैं हूं ना’ और ‘ओम शांति ओम’ का ही निर्देशन किया है.

फ़राह कहती हैं, “मुझे कम फ़िल्में करना ही पसंद है. मुझे डायरेक्शन को कभी भी फ़ैक्टरी की तरह काम नहीं बनाना है बल्कि उसका मज़ा लेना है. अगर मैं लगातार निर्देशन करती रही तो फिर मैं उसका मज़ा नहीं ले पाऊँगी.”

निर्देशन

इन दिनों फ़राह अपनी तीसरी फ़िल्म ‘तीस मार ख़ान’ के निर्देशन में व्यस्त हैं. फ़िल्म में अक्षय कुमार, कैटरीना कैफ़ और अक्षय खन्ना मुख्य भूमिकाओं में हैं.

फ़िल्म के बारे में फ़राह कहती हैं, “बहुत कम समय में हमने बहुत सारा काम कर लिया. तीस दिन की शूटिंग में ही हमने पचास प्रतिशत शूटिंग पूरी कर ली है.”

फ़िल्म के कलाकारों, ख़ास कर अक्षय कुमार और कैटरीना कैफ़ की फ़राह काफ़ी तारीफ़ करती हैं.

वो कहती हैं, “अक्षय के साथ मैं पहले भी काम कर चुकी हूं. उनके साथ काम करना बहुत शानदार अनुभव है. इस फ़िल्म में उनके साथ काम करके मैं बहुत ख़ुश हूं. कोई आए न आए, वो सुबह-सुबह सेट पर पहुंच जाते हैं.”

कैटरीना के बारे में फ़राह कहती हैं, “कैटरीना बहुत ही मेहनती हैं. शूटिंग के दौरान उन्हें ही सबसे ज़्यादा डॉयलाग याद रहते थे. डांस सिक्वेंसिज़ के लिए भी वो 10-12 दिन तक उन्होंने रिहर्सल की. फ़िल्म में घाघरा-चोली पहननी थी जिसके लिए उन्होंने अपनी बॉडी पर बहुत मेहनत की. मुझे लगता है कि तीस मार ख़ान में वो पहली बार पूरी तरह से कमर्शियल हिंदी फ़िल्म की हीरोइन लग रही हैं.”

रियेल्टी शो की जज

1992 से अनगिनत फ़िल्मों में बॉलीवुड के बड़े-बड़े सितारों को अपने इशारों पर नचा चुकीं फ़राह इन दिनों बच्चों के एक डांस रियेल्टी शो को भी जज कर रही हैं.

इस बारे में वो कहती हैं, “बच्चों को डांस कराना बहुत आसान है क्योंकि वो बहुत जल्दी सीखते हैं.”

मुंबई में फ़राह इस शो में हिस्सा ले रहे बच्चों को अपने भाई और निर्देशक साजिद ख़ान की फ़िल्म 'हाउसफ़ुल' दिखाने लेकर गईं थीं.

फ़राह कहती हैं, “बच्चों का शो बिल्कुल ही अलग होता है. वो बहुत संवेदनशील होते हैं. उनके साथ बहुत ध्यान से काम करना पड़ता है क्योंकि वो बात-बात पर रोने लगते हैं. मेरे ख़ुद के भी बच्चे हैं इसलिए मुझे लगता है कि मैं अब बच्चों को थोड़ा ज़्यादा बेहतर हैंडल कर सकती हूं.”

फ़राह ख़ान के ट्रिपलेट्स हैं यानी तीन जुड़वा बच्चे हैं. वो कहती हैं कि बच्चों की देखभाल के लिए समय का प्रबंधन बहुत ज़रुरी है.

संबंधित समाचार