मुंबई की ख़स्ताहाल सड़कों से पस्त हैं अक्षय

हाउसफ़ुल में पनौती की भूमिका निभाकर सबको हंसाने वाले अक्षय कुमार इनदिनों फ़िल्म खट्टा-मीठा से लोगों को लुभाने की कोशिश कर रहे हैं.

प्रियदर्शन की फ़िल्म ‘खट्टा-मीठा’ में अक्षय ने ठेके पर सड़क बनाने वाले कॉन्ट्रैक्टर का किरदार निभाया है जिसकी परिस्थितियों से हास्य पैदा होता है.

अक्षय कहते हैं, “मुंबई इतना बड़ा और व्यावसायिक नज़रिए से बेहद महत्वपूर्ण शहर है लेकिन फिर भी यहां सड़कों का हाल बेहाल है. जगह-जगह गड्ढे हैं और बरसात में तो हालत और खस्ता हो जाती है. इन्हीं हालात को हास्य-व्यंग्य के ज़रिए दिखाने की कोशिश की गई है. शायद नगर निगम फ़िल्म के ज़रिए इस समस्या की ओर ध्यान दे”

फ़िल्म के बारे में अक्षय कहते हैं, “खट्टा-मीठा बिल्कुल यथार्थवादी कहानी है. हर किसी की ज़िंदगी में अच्छी औऱ बुरी यानी खट्टी या मीठी स्थितियां आती ही रहती हैं इसलिए ये किसी की भी कहानी हो सकती है.”

फ़िल्म में अक्षय सचिन टिचकुले की भूमिका में है जो वास्तव में तो एक सीधा-सादा इंसान है लेकिन हालात उसे भ्रष्ट बना देते हैं. उसके बाद भी ज़िंदगी किस तरह से कभी खट्टी तो कभी मीठी होती है यही ‘खट्टा-मीठा’ की कहानी है.

निर्देशक प्रियदर्शन के बारे में अक्षय कहते हैं कि वे बहुत सारी कॉमेडी फ़िल्में बना चुके हैं और उन्हें कॉमेडी की अच्छी समझ है.

अक्षय कहते हैं कि उन्होंने कई कॉमेडी फ़िल्मों में काम किया है लेकिन उनकी नज़र में ‘खट्टा-मीठा’ उनकी सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म है. प्रियदर्शन ‘खट्टा-मीठा’ पहले मलयालम में भी बना चुके हैं.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.