‘तुम भी’ दे सकते हो अपनी कला को मंज़िल

अनुराग कश्यप

अनुराग कश्यप' तुम-भी' से जुड़े हैं

सपनों के शहर मुंबई जाने वाले लोगों को सही मौक़े की तलाश में अक्सर भटकना पड़ता है. मायानगरी में सही वक्त पर हुनर को दिखाने का अवसर मिलने से क़िस्मत चमक तो जाती है लेकिन ये मुमकिन कैसे हो ?

इस सवाल का एक जवाब बन कर आय़ा है वेब पोर्टल 'तुम-भी डॉट कॉम'. यह कला और कला के कद्रदानों के लिए एक साझा मंच है.फ़िल्म निर्देशक अनुराग कश्यप और अभिनेत्री कल्कि कोएचलिन इस पोर्टल से जुड़े हुए हैं जिन्होने हाल ही में इसे लॉन्च किया.

' यहां पर कलाकार अपनी प्रतिभा प्रदर्शन कर सकते हैं और उनकी कला को पसंद करने वाले सीधे उनसे ही संपर्क कर सकते हैं. इस तरह कला को उसकी मंज़िल मिल सकती है'.

अनुराग कश्यप

मुंबई में इसकी शुरुआत करने पहुंचे अनुराग कश्यप ने बताया कि' तुम-भी डॉट कॉम' हर कलाकार के लिए उपयोगी है. चित्रकला, संगीत औऱ कविताओं से लेकर लघु फ़िल्मों तक हर तरह की कला के नमूने इस पर आमंत्रित हैं. कलाकारों का पूरा परिचय भी यहां उपलब्ध होगा'.

अनुराग कहते हैं कि इस पोर्टल के लॉन्च के मौक़े पर मौजूद अभिनेत्री कल्कि कोएचलिन ने मुंबई में अपने शुरूआती दिनों को याद करते हुए कहा कि 'जब मैं इस शहर में आई थी काफ़ी दिक्क़तें होती थी. नए होने के कारण आपको पता ही नहीं चल पाता कि कहां क्या हो रहा है. इस लिहाज से तुम भी डॉट कॉम एक बहुत ही अच्छा प्रयास है'.

मनोरंजन और कला की दुनिया में दिलचस्पी रखने वाले लोगों के लिए इसकी उपयोगिता बताते हुए कल्कि ने कहा कि 'अलग अलग स्टूडियो के चक्कर लगाने के बजाय अगर एक ही जगह पर अपना पोर्टफ़ोलियो देने से काम बन जाए तो इससे बेहतर क्या होगा'.

हालांकि अनुराग कश्यप की नज़र इस बात पर है कि लोग इस नई शुरूआत में कितनी रूचि दिखाते हैं.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.