ऑन-स्क्रीन कैमिस्ट्री में यक़ीन नहीं

अभिषेक बच्चन और ऐश्वर्या राय बच्चन

अभिषेक बच्चन पर्दे पर हीरो और हिरोइन के बीच कैमिस्ट्री के बीच में यक़ीन नहीं करते.

अभिषेक बच्चन पर्दे पर हीरो और हिरोइन के बीच कैमिस्ट्री में यक़ीन नहीं करते, फिर बात चाहे उनकी और रानी मुखर्जी या फिर ऋतिक रोशन और उनकी पत्नी ऐश्वर्या राय बच्चन की जोड़ी की हो.

हाल ही में अभिषेक बच्चन की पत्नी ऐश्वर्या राय बच्चन की फ़िल्म ‘गुज़ारिश’ रिलीज़ हुई है जिसमें उनके हीरो ऋतिक रोशन हैं. फ़िल्म में इन दोंनो की जोड़ी के काफ़ी चर्चे हो रहे हैं. इससे पहले भी फ़िल्म ‘जोधा-अकबर’ और ‘धूम-2’ में भी इनकी जोड़ी लोकप्रिय हुई थी.

बीबीसीके साथ एक ख़ास बात-चीत में जब अभिषेक से ऋतिक- ऐश्वर्या की जोड़ी या ऑन-स्क्रीन कैमिस्ट्री के बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा, “मैं जोड़ी या कैमिस्ट्री की बातों में यक़ीन नहीं करता. मैं मानता हूं कि बतौर ऐक्टर आपका काम है अपना किरदार अच्छी तरह से निभाना. इसलिए मैं इन बातों पर ज़्यादा ध्यान नहीं देता कि इसकी जोड़ी अच्छी है या उसकी जोड़ी अच्छी है. आखिर तो आपको अपना काम अच्छी तरह से करना होता है.”

जे पी दत्ता की फ़िल्म ‘रिफ़्यूजी’ से बॉलीवुड में कदम रखने वाले अभिषेक बच्चन की शुरुआत में काफ़ी फ़िल्में फ़्लॉप रहीं. इसके बावजूद उन्हें मणि रत्नम, करण जौहर, आदित्य चोपड़ा और रामगोपाल वर्मा जैसे बड़े-बड़े निर्माता-निर्देशकों ने अपनी फ़िल्मों में लिया.

अभिषेक कहते हैं कि वो भी इसकी वजह नहीं जानते. वो कहते हैं, “मैं सच में इसका जवाब नहीं जानता. ये आप उन फ़िल्ममेकर्स से ही पूछें. मैं तो बस ख़ुश हूं कि वो मुझे अपनी फ़िल्म में लेते हैं. शायद उन्हें लगा हो कि मैं उस रोल के लिए ठीक हूं और उसे अच्छी तरह से कर पाऊंगा.”

मैं जोड़ी या कैमिस्ट्री की बातों में यक़ीन नहीं करता. मैं मानता हूं कि बतौर ऐक्टर आपका काम है अपना किरदार अच्छी तरह से निभाना. इसलिए मैं इन बातों पर ज़्यादा ध्यान नहीं देता.

अभिषेक बच्चन

अभिषेक बच्चन की आखिरी फ़िल्म मणि रत्नम द्वारा निर्देशित 'रावण' थी जो बॉक्स ऑफ़िस पर कुछ ख़ास नहीं कर पाई.

फ़िल्मों के फ़्लॉप होने के बारे में अभिषेक का कहना है, “अगर कोई फ़िल्म फ़्लॉप हो जाती है तो उसे स्वीकार कर आगे बढ़ने के अलावा आप और कुछ और नहीं कर सकते. मुझे अपनी किसी भी फ़िल्म को करने का पछतावा नहीं है, चाहे वो चली हो या नहीं क्योंकि आप हर फ़िल्म से कुछ-न-कुछ सीखते हैं.”

बीबीसी के ही साथ एक इंटरव्यू में अभिषेक बच्चन के पिता और हिंदी फ़िल्मों के सबसे लोकप्रिय अभिनेताओं में से एक अमिताभ बच्चन ने कहा था कि उन्हें अभिषेक बच्चन के पिता के रुप में पहचाने पर गर्व महसूस होता है.

अभिषेक का कहना है, "मुझसे उन्होंने कभी इस बारे में कुछ नहीं कहा. फ़िलहाल मैं बहुत ख़ुश हूं कि मैं अमिताभ बच्चन के बेटे के तौर पर पहचाना जाता हूं."

ये पूछे जाने पर कि उन्हें अपने पिता अमिताभ या फिर मां जया बच्चन में से किसका काम ज़्यादा पसंद है, अभिषेक ने कहा, “मैं इस बात का फ़ैसला नहीं कर सकता, मुझे दोंनो का ही काम पसंद है. पा (अमिताभ बच्चन) एक ‘लेजेंड’ हैं और मां (जया) भारतीय सिनेमा की सबसे बेहतरीन अभिनेत्रियों में से एक हैं.”

अभिषेक मानते हैं कि उनकी सबसे बड़ी क्रिटिक उनकी तेरह वर्षीय भांजी है. वो कहते हैं, “मेरी सबसे बड़ी आलोचक या समीक्षक मेरी भांजी है. वो अपने सुझाव बहुत खुलकर और बिना झिझके देती है और मैं उसके सुझावों को बहुत गंभीरता से लेता हूं. वो भी एक दर्शक है और बतौर ऐक्टर आपको सभी दर्शकों का सुझाव गंभीरता से लेना चाहिए.”

अभिषेक बच्चन की अगली फ़िल्म ‘खेलें हम जी जान से’ तीन दिसम्बर को रिलीज़ हो रही है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.