इंटरनेट सिखाएगा गाना !

शंकर महादेवन
Image caption शंकर महादेवन ने एक ऑनलाइन संगीत अकादमी खोली है.

गीत-संगीत का शौक रखने वालों को गायक संगीतकार शंकर महादेवन की तरफ़ से एक तोहफ़ा मिला है.

उन्होंने एक ऑनलाइन म्युज़िक अकादमी खोली है. शंकर का दावा है कि इसमें आप घर बैठे इंटरनेट के ज़रिए संगीत और गाना सीख सकते हैं.

बीबीसी से ख़ास बातचीत में शंकर महादेवन ने बताया, "हमारी इस अकादमी में आप कर्नाटक शास्त्रीय संगीत, हिंदुस्तानी क्लासिकल संगीत और हॉबी म्युज़िक भी सीख सकते हैं. हम इसमें आसान गानों और कठिन गानों का अलग मेन्यू बना रहे हैं. आप इसके ज़रिए अजी दास्तां है ये, रात कली एक ख़्वाब में आई से लेकर कल हो ना हो जैसे गाने आसानी से सीख सकते हैं."

शंकर ने बताया कि इस अकादमी में शिक्षक और छात्र वीडियो चैटिंग कर सकते हैं.

उनके मुताबिक़ इसमें बाक़ायदा छात्रों के लिए कोर्स डिज़ाइन किए गए हैं. कोर्स पूरा होने के बाद छात्र परीक्षा दे सकते हैं. इसके लिए वो अपनी आवाज़ में गाना रिकॉर्ड कर सकते हैं. हमारी अकादमी उन्हें इसका फ़ीडबैक भी देगी.

हालांकि शंकर महादेवन का ये संगीत स्कूल फ़िलहाल अमरीका में ही खोला गया है.

शंकर ने बताया कि भारत में अभी इसके लिए पर्याप्त तकनीकी सुविधा ना होने की वजह से ये भारत में नहीं शुरु हुआ, लेकिन जल्द ही शुरु कर दिया जाएगा.

इसका आइडिया शंकर को कैसे आया, ये पूछने पर उन्होंने बताया, "मैं इंजीनियर भी हूं और संगीत से भी जुड़ा हूं. तो मैंने सोचा कि क्यों ना तकनीक के ज़रिए कला का प्रसार किया जाए."

शंकर महादेवन ने हाल ही में आईपीएल की 'पुणे वॉरियर्स' टीम के लिए एक गाना भी तैयार किया है. इसके बारे में उन्होंने कहा, "संगीत लोगों के दिलों में उमंगे भर देता है. हमारा ये गाना भी बेदह ऊर्जादायक है."

शंकर ने अपने संगीतकार साथियों एहसान और लॉय के साथ मिलकर क्रिकेट विश्व कप का थीम सॉंग 'दे घुमा के' भी तैयार किया था.

क्या उनके इस गाने ने विश्व चैंपियन भारतीय टीम को बेहतर प्रदर्शन करने की प्रेरणा दी. इस पर शंकर ने कहा, "बेहतरीन प्रदर्शन करके कप जीतने के लिए तो खिलाड़ियों को ही श्रेय दिया जाना चाहिए. लेकिन हां, शायद हमारे इस गाने ने खिलाड़ियों को भी थोड़ी बहुत प्रेरणा दी हो."

संबंधित समाचार