नए गाने सुनने का समय नहीं—आशा भोंसले

आशा भोंसले
Image caption आशा भोंसले फ़िल्म माई में ऐक्टिंग कर रही हैं.

प्रसिद्ध गायिका आशा भोंसले के पुराने गाने आज भी इतने लोकप्रिय हैं कि उन्हें नई फ़िल्मों में रीमिक्स कर इस्तेमाल किया जा रहा है.

लेकिन आशा जी कहती हैं कि वो नए गाने और रीमिक्सिज़ न तो सुनती हैं और न ही देखती हैं. वो कहती हैं कि वो रात को सिर्फ़ एक-डेढ़ घंटे ही टीवी देखती हैं और इससे ज़्यादा उनके पास समय नहीं होता.

इन दिनों आशा भोंसले के गाए हुए गाने ‘दम मारो दम’ का रीमिक्स वर्ज़न चर्चा में है. मौलिक गाना देव आनंद की 1971 में आई इसी नाम की फ़िल्म का है. फ़िल्म का संगीत स्वर्गीय आरडी बर्मन का था.

लेकिन लगता है आशाजी इस गाने के रीमिक्स से बहुत ख़ुश नहीं हैं. इस बारे में वो कहती हैं, “आर डी बर्मन ऐसे संगीतकार थे जिनके गाने आज भी सुपरडूपर हिट हैं. उनके गानों को हाथ लगाना.... ऐसी मूर्खता जो लोग करते हैं, उनके लिए अच्छा है. वैसे मुझे इस बारे में कुछ नहीं कहना. जो अच्छी चीज़ है वो रह जाएगी, जो नहीं है वो मिट जाएगी.”

ये बात आशा भोंसले ने रविवार को मुम्बई में फ़िल्म ‘माई’ के मुहूर्त के दौरान पत्रकारों से बातचीत में कही.

अभिनेत्री आशा

पिछले साठ साल से ज़्यादा से प्लेबैक सिंगिंग में एक विशिष्ट स्थान बना चुकीं आशा भोंसले अब फ़ैन्स को एक नए रूप में दिखेंगीं. वो निर्देशक महेश कोडियाल की फ़िल्म ‘माई’ में ऐक्टिंग कर रही हैं.

आशाजी को ऐक्टिंग को लेकर कोई डर नहीं है. वो कहती हैं, “ये मेरे जीवन की पहली फ़िल्म है जिसमें मैं बड़ा रोल कर रही हूं. लेकिन ये पहली बार नहीं है जब मैं ऐक्टिंग कर रही हूं. इससे पहले 1943 में मैंने बतौर बाल कलाकार एक फ़िल्म में काम किया था, इसलिए कैमरे से मुझे डर नहीं लगता है.”

कैमरे का डर भले ही आशाजी में न हो लेकिन फिर भी ऐक्टिंग के बारे में फ़ैसला करने में उन्हें कुछ महीने लगे. उन्होंने बताया, “ऐक्टिंग के बारे में मैं अभी नहीं डर रही लेकिन पहले डर रही थी क्योंकि ये मेरा कार्यक्षेत्र नहीं है. तीन-चार महीने तक सोचती रही कि करूं या न करूं क्योंकि मेरा काम गाने का है, ऐक्टिंग नहीं. फिर सब लोगों ने बहुत समझाया तो हां कहा.”

गायकी को अपनी जान कहने वाली आशा भोंसले कहती हैं कि माई के बाद उनका आगे ऐक्टिंग करने का कोई इरादा नहीं है. ये फ़िल्म भी वो शौक में कर रही हैं. वो कहती हैं, “मुझे फ़िल्म में कभी काम करने की इच्छा नहीं हुई. एक बार किसी ने कहा था तो मैंने मना कर दिया था. मैंने कहा था कि जब मैं आइने में देखती हूं तो ख़ुद को हीरोईन की तरह नहीं दिखती.”

फ़िल्म ‘माई’ से अस्सी के दशक की लोकप्रिय हीरोइन पदमिनी कोल्हापुरे बड़े पर्दे पर वापसी कर रही हैं. उनके अलावा फ़िल्म में राम कपूर भी नज़र आएंगे.

संबंधित समाचार