...ताकि मां-बाप को फ़िल्म दिखा सकूं-प्रियंका चोपड़ा

प्रियंका चोपड़ा इमेज कॉपीरइट pr

एतराज़, डॉन, फ़ैशन और सात ख़ून माफ़ जैसी फ़िल्मों में ग्लैमरस रोल कर चुकी अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा का मानना है कि फ़िल्मों में खुलापन एक दायरे में होना चाहिए.

मुंबई में युवाओं और उन पर फ़िल्मों का प्रभाव विषय पर बुलाई गई एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में प्रियंका ने कहा, "रोल चाहे जितना भी ग्लैमरस क्यों ना हो उसे इस ख़ूबसूरती से फ़िल्माया जाना चाहिए कि वो अश्लील ना लगे. मैं ऐसा कोई भी किरदार नहीं निभाना चाहूंगी जिसे मैं अपने मां-बाप को ना दिखा सकूं. वैसे भी मैं पहले से तय नहीं करती कि मुझे किस सीमा तक ग्लैमरस दिखना है. ये फ़िल्म दर फ़िल्म निर्भर करता है."

आज का युवा फ़िल्मों से कितना प्रभावित होता है. ये पूछे जाने पर प्रियंका बोलीं, "आज का नौजवान बेहद समझदार है. उसे पता है सिनेमा काल्पनिक होता है. उसे ये भी पता है कि क्या सही है क्या ग़लत. तो सिनेमा का युवाओं पर प्रभाव तो पड़ता है, लेकिन सही तरीके से."

प्रियंका के मुताबिक़ भारत में दर्शक अब पहले से ज़्यादा खुले दिल के हो गए हैं और वो अलग तरह की कहानियों वाली फ़िल्में भी पसंद कर रहे हैं. वो कहती हैं कि आज का दर्शक फ़िल्मों में ज़रूरत से ज़्यादा ड्रामा पसंद नहीं करता.

क्या भविष्य में प्रियंका हॉलीवुड की फ़िल्में भी करना पसंद करेंगी. इस पर प्रियंका का जवाब था, "मुझे फ़िल्में पसंद हैं, चाहे वो किसी भी भाषा की हों. अगर भविष्य में मुझे कोई बहुत रोमांचक प्रस्ताव आता है तो मैं ज़रूर करूंगी. लेकिन फ़िलहाल जो मैं कर रही हूं उससे बहुत ख़ुश हूं और हॉलीवुड जाने के लिए कोई बहुत ज़्यादा उतावली नहीं हूं."

प्रियंका की आने वाली फ़िल्में हैं डॉन 2, कृष 2 और अग्निपथ.

संबंधित समाचार