'अंतरराष्ट्रीय समारोहों के लिए नहीं हमारी फ़िल्में'

फ़िल्म अभिनेता सैफ़ अली ख़ान
Image caption सैफ़ अली ख़ान इस साल कान फ़िल्म समारोह में रेड कार्पेट पर नज़र आएंगे.

सैफ़ अली ख़ान मानते हैं कि कान फ़िल्म फ़ेस्टिवल में बॉलीवुड की मसाला फ़िल्मों की जगह नहीं है.

हाल ही में मुम्बई में एक पत्रकार सम्मेलन में सैफ़ के इस साल प्रतिष्ठित कान फ़िल्म समारोह में हिस्सा लेने की घोषणा की गई. वहां उनसे पूछा गया कि क्या वो अपनी नई फ़िल्म ‘ऐजेंट विनोद’ कान में दिखाना चाहेंगे.

इसके जवाब में सैफ़ ने कहा, “मैं जिस तरह की फ़िल्मों में काम करता हूं वो ऐसी नहीं हैं जो कान फ़ेस्टिवल में दिखाई जाएं या कॉम्पीटीशन में भेजी जा सकें. हम भारतीयों के लिए, ज़्यादातर व्यावसायिक फ़िल्में बनाते हैं और ये फ़िल्में उन फ़िल्मों से बिल्कुल अलग होती हैं जिन्हें कान फ़ेस्टिवल में दिखाया जाता है. मुझे लगता है कि ऐसी फ़िल्मों की कान जैसे अंतरराष्ट्रीय समारोह में जगह नहीं होती.”

लेकिन सैफ़ ये भी कहते हैं, “क्या पता भविष्य में हमारी फ़िल्में भी वहां कम्पीट कर सकें, ये सब ज्यूरी पर निर्भर करेगा.”

सैफ़ अली ख़ान इस बार कान फ़िल्म फ़ेस्टिवल में कई अंतरराष्ट्रीय सितारों के साथ रेड कार्पेट पर चलेंगे. ये फ़ेस्टिवल 11 से 25 मई के बीच होगा. सैफ़ की मां और जानी-मानी अभिनेत्री शर्मिला टैगोर 2009 में इस समारोह की ज्यूरी की सदस्य थीं.

ये पूछे जाने पर कि मौका मिलने पर वो अपनी कौन सी फ़िल्म कान में दिखाना चाहेंगे, सैफ़ ने विशाल भारद्वाज द्वारा निर्देशित ‘ओंकारा’ का नाम लिया.

अभी शादी की बात नहीं

कान में सैफ़ के साथ उनकी गर्लफ़्रैंड करीना कपूर नहीं जा रहीं. इस बारे में पूछे जाने पर सैफ़ ने मज़ाकिया अंदाज़ में कहा, “ आई एम ए बिग बॉय नाउ (मै अब बड़ा हो गया हूं), मैं करीना के बग़ैर भी जा सकता हूं.”

काफ़ी समय से इन दिनों की शादी के बारे में अटकलें लगाई जा रही हैं. शादी के प्लैन्स के बारे में पूछे जाने पर सैफ़ का कहना था, “प्लैन तो बनते ही रहते हैं, लेकिन अभी हम अपनी फ़िल्मों पर ध्यान दे रहे हैं. फ़िलहाल मेरा ध्यान ऐजेंट विनोद पर है और निजी बातों के बारे में फ़िल्म के रिलीज़ के बाद सोचूंगा.”

सुपरहीरो

सैफ़ कहते हैं कि वो भी मौक़ा मिलने पर शाहरुख़ ख़ान और हृतिक रोशन की तरह सुपरहीरो का रोल करना चाहेंगे.

उन्होंने कहा, “अगर मौका मिला तो मैं सुपरहीरो बनना चाहूंगा, लेकिन उसके लिए रोल और कहानी सही होना चाहिए. मैं सुपरहीरोज़ की कॉमिक्स पढ़ कर ही बड़ा हुआ हों, शायद वुल्वरीन या बैटमैन जैसा सुपरहीरो बनना चाहूं. वैसे मुझे लगता है कि ऐजेंट विनोद भी एक तरह से सुपरहीरो है.”

सैफ़ ने बताया कि ऐजेंट विनोद की शूटिंग अगस्त तक ख़त्म हो जाएगी.

संबंधित समाचार