मन तो अब भी जवान है- पंडित रविशंकर

पंडित रविशंकर

91 साल के पंडित रविशंकर ब्रिटेन में अपने कॉन्सर्ट्स के सिलसिले में व्यस्त हैं.

अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त सितारवादक भारतरत्न पंडित रविशंकर 91 साल के हो चुके हैं. लेकिन संगीत के प्रति उनके जुनून में ज़रा भी कमी नहीं आई है.

इस महीने पंडित रविशंकर के ब्रिटेन के कुछ शहरों में कॉन्सर्ट्स होने हैं.

आखिर इस उम्र में भी जवानों जैसा जोश कहां से लाते हैं पंडित जी. लंदन में बीबीसी के साथ एक ख़ास मुलाकात में पंडित रविशंकर ने इसका जवाब दिया, "भले ही मेरा शरीर 91 साल का हो गया है, लेकिन मेरा मन तो अब भी जवान है. ये ज़िंदगी लगातार चलने वाला एक संघर्ष है और मैं इस संघर्ष का लुत्फ़ उठा रहा हूं. ये बस भगवान की दुआ है."

भले ही मेरा शरीर 91 साल का हो गया है, लेकिन मेरा मन तो अब भी जवान है. ये ज़िंदगी लगातार चलने वाला एक संघर्ष है और मैं इस संघर्ष का लुत्फ़ उठा रहा हूं.

भारतरत्न पंडित रविशंकर, प्रख्यात सितार वादक

पंडित रविशंकर ने ये भी कहा कि उनका अब तक का सफ़र ज़बरदस्त रहा और वो अपने चाहने वालों के शुक्रगुज़ार हैं.

इस बातचीत के दौरान पंडित रविशंकर ने बताया कि उनके जीवन की दिशा तय करने में उनके बड़े भाई दिवंगत उदय शंकर का काफ़ी योगदान रहा.

बचपन में तकरीबन आठ साल वो अपने बड़े भाई के साथ रहे और इस दौरान अमरीका और यूरोप के कई दौरे किए. जिससे इन देशों के लोगों की पसंद और उनके मन को परखने में उन्हें काफ़ी मदद मिली.

प्रेरणा

पंडित रविशकर और सुकन्या

अपनी पत्नी सुकन्या के साथ पंडित रविशंकर

बीटल्स ग्रुप और जॉर्ज हैरीसन जैसे प्रख्यात अंतरराष्ट्रीय संगीतकारों के प्रेरणा स्त्रोत रह चुके पंडित रविशंकर के मुताबिक संगीत ही उनके जीवन की प्रेरणा रहा है और उन्होंने ज़िंदगी भर ना सिर्फ़ इसका लुत्फ़ उठाया है बल्कि इसे महसूस भी किया है.

अपने परिवार के बारे में बताते हुए वो कहते हैं, "मुझे अपनी दोनों बेटियों पर गर्व है. अनुष्का ने हाल ही में एक बेटे को जन्म दिया है. हमने उसका नाम ज़ुबिन रखा है. मेरी पत्नी सुकन्या ने अब तक बहुत अच्छी तरह से मेरा ख़्याल रखा है."

पंडित रविशंकर को भारत और अमरीका के कई विश्वविद्यालयों से ऑनरेरी डिग्री मिल चुकी हैं. वो संगीत जगत का अंतरराष्ट्रीय ग्रैमी पुरस्कार भी जीत चुके हैं.

उनकी बेटी अनुष्का शंकर भी विश्व प्रसिद्ध सितार वादक हैं और वो भी ग्रैमी पुरस्कार जीत चुकी हैं.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.