निर्देशक मणि कौल का निधन

इमेज कॉपीरइट poster

जाने-माने फ़िल्मकार और राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता मणि कौल का नई दिल्ली में निधन हो गया है. 66 साल के मणि कौल पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे.

मणि कौल ने उसकी रोटी, आषाढ़ का एक दिन, दुविधा और इडियट जैसी फ़िल्मों का निर्देशन किया जिन्हें देश-विदेश में काफ़ी सराहना मिली.उनकी चार फ़िल्मों को फ़िल्मफ़ेयर क्रिटिक्स अवॉर्ड मिल चुका है.

60 के दशक के अंत में भारत में ‘न्यू इंडियन सिनेमा’ के तहत नई और अलग तरह की फ़िल्मों का चलन शुरु करने वालों में मृणाल सेन, कुमार साहनी जैसे लोगों के साथ-साथ मणि कौल का नाम भी लिया जाता है.

राजस्थान में कश्मीरी मूल के परिवार में जन्मे मणि कौल ने एफ़टीटीआई में पढ़ाई की और फ़िल्म निर्देशन के क्षेत्र में उतरे.

जल्द ही उन्होंने प्रयोगात्मक फ़िल्में बनाकर अपनी अलग जगह बना ली. बॉलीवुड की तड़क-भड़क से दूर वे जीवन भर अपनी तरह की फ़िल्में बनाते रहे.

अलग राह अपनाई

1969 में उन्होंने ‘उसकी रोटी’ नाम की फ़िल्म बनाई जो एक प्रयोगात्मक फ़िल्म थी. इसके लिए मणि कौल को पहली बार फ़िल्मफ़ेयर क्रिटिक्स अवार्ड दिया गया.

1971 में मोहन राकेश के नाटक ‘आषाढ़ का एक दिन’ पर आधारित इसी नाम से फ़िल्म बनाई. इसमें ओम शिव पुरी, रेखा सबनिस और अरुण खोपकर ने काम किया था. फ़िल्म को काफ़ी प्रशंसा मिली और फ़िल्मफ़ेयर क्रिटिक्स अवॉर्ड भी.

वर्ष 1973 में बनाई गई फ़िल्म दुविधा को भी काफ़ी सराहना मिली. एक राजस्थानी लोक कथा पर आधारित इस फ़िल्म के लिए भी मणि कौल को एक बार फिर दिया गया फ़िल्मफ़ेयर क्रिटिक्स अवॉर्ड.इसी से मिलती जुलती बाद में शाहरुख़ खान की फ़िल्म पहेली भी बनी थी.

70 के दशक में उन्होंने घासीराम कोतवाल नाटक पर आधारित कुछ लोगों के साथ मिलकर फ़िल्म भी बनाई थी जो ओम पुरी की पहली फ़िल्म थी.

मणि कौल ने हमेशा अलग-अलग विषयों को अपनी फ़िल्मों में जगह दी. 1989 में आई ग़ैर-फ़ीचर फ़िल्म ‘सिद्धेश्वरी’ में उन्होंने ठुमरी गायिका सिद्धेश्वरी देवी के जीवन को दर्शाया था. इसके लिए मणि कौल को राष्ट्रीय पुरस्कार मिला.

90 के दशक में उन्होंने टीवी के लिए मिनीसिरीज़ बनाई इडियट जिसे बाद में उन्होंने बतौर फ़िल्म पेश किया. इसमें शाहरुख़ खान ने भी रोल किया था जब वे बड़े स्टार नहीं बने थे. इसे भी फ़िल्मफ़ेयर क्रीटिक्स अवॉर्ड दिया गया था.

उन्होंने डॉक्यूमेंट्री भी बनाई हैं जिसमें 1982 में बनाया वृत्तचित्र ध्रुपद भी शामिल था.

संबंधित समाचार