प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

बीबीसी 70 एमएम

अन्ना हज़ारे के अनशन ने न सिर्फ आम जनता को अपनी और खीचा बल्कि हिंदी सिनेमा जगत ने भी अपना समर्थन जताया अन्ना की ओर.

तो इस हफ्ते बीबीसी 70 एमएम में आप सुन सकते हैं अमिताभ बच्चन को जो कहते हैं कि भारत एक प्रजातंत्र है. और हर भारतीय चाहता है की उसे भ्रष्टाचार से मुक्ति मिले.

वहीं युवा अभिनेता इमरान खान कहते हैं कि अन्ना ने देश के युवकों को इस आन्दोलन के ज़रिये एकजुट किया है.

लेकिन निर्माता निर्देशक महेश भट्ट की राय थोड़ी अलग है. महेश कहते हैं कि उन्हें अन्ना के आन्दोलन से समस्या नहीं है, वो तो सिर्फ अन्ना के जनलोक पल बिल से सहमत नहीं हैं.

इस हफ्ते बीबीसी 70 एमएम में आप सुन सकते हैं शहीद कपूर को जो जल्द ही नज़र आएंगे पंकज कपूर निर्देशित फिल्म मौसम में. मौसम शहीद के पिता पंकज कपूर की बतौर निर्देशक पहली फिल्म है.

शहीद कहते हैं कि फिल्म की अभिनेत्री सोनम कपूर से उनकी खूब जमती है. साथ ही वो ये भी कहते हैं कि सोनम उनके लिए हमेशा खास.

साथ ही शो में हैं संजय दत्त भी. संजय दत्त अग्निपथ के रेमाके में खलनायक की भूमिका में हैं. संजय दत्त ने इस फिल्म के लिए अपना सर भी मुंडवाया है. संजय कहते हैं कि ऐसा करना फिल्म में उनकी भूमिका के लिए अनिवार्य था.

कार्यक्रम में हम याद कर रहे हैं महान फ़िल्मकार ऋषिकेश मुख़र्जी को. 27 अगस्त 2006 को ऋषिकेश मुख़र्जी ने इस दुनिया को अलविदा कहा था. उन्होंने गुड्डी, मिली, आनंद, अभिमान, बावर्ची, नरम गरम और ख़ूबसूरत जैसी फिल्में बनायीं.

ऋषिकेश को याद करते हुए अभिनेता फ़ारूख शेख़ कहते हैं कि ऋषि दा की फिल्मों में कमल का संतुलन देखने को मिलता था, उनकी फिल्में सतही नहीं होती थी.

ऋषि दा के बारे में आप अमोल पालेकर और जूही चावला के विचार भी सुन सकते हैं.