'चमेली' नहीं होगी मैडम तुसॉद में

अभिनेत्री करीना कपूर इमेज कॉपीरइट bbc
Image caption करीना कपूर का मोम का पुतला लंदन के मैडम तुसॉद संग्राहलय में लगेगा.

अभिनेत्री करीना कपूर को 2003 की फ़िल्म 'चमेली' ने बॉलीवुड में एक नई पहचान दी. लेकिन मैडम तुसॉद संग्राहलय में उनकी पहचान कुछ और होगी.

अमिताभ बच्चन, ऐश्वर्या राय, शाहरुख़ ख़ान और सलमान ख़ान के बाद अब करीना कपूर का मोम का पुतला लंदन के मशहूर मैडम तुसॉद संग्राहलय में लगाया जाएगा.

कई दिनों से अफ़वाह थी कि करीना के पुतले का ‘लुक’ फ़िल्म चमेली में उनकी ‘लुक’ पर आधारित होगा.

लेकिन हाल ही में लंदन में बीबीसी के साथ एक ख़ास बातचीत में करीना ने इस बात से इंकार किया.

उन्होंने बताया, “पुतला किस तरह दिखे, इस बारे मुझसे सलाह ली गई थी और मैंने अपने सुझाव दिए. फ़िलहाल मैं इतना ही बता सकती हूं कि वो फ़िल्म ‘चमेली’ में मेरी ‘लुक’ जैसा नहीं होगा. इसका पता 18 अक्तूबर को ही चलेगा जब ब्लैकपूल में मेरा पुतला ‘अनवेल’ होगा. लेकिन मैं अपने फ़ैन्स से वादा करती हूं कि वो वैसा ही मेरा रूप देखेंगे जैसा वो चाहते हैं.”

करीना ने कहा कि इतने मशहूर संग्राहलय में उनको जगह मिला उनके लिए सम्मान की बात है.

करीना ने कहा, “मैडम तुसॉद में (मेरा) मोम का पुतला बनना सम्मान की बात है. सबसे पहले ये पुतला ब्लैकपूल में खुल रहे मैडम तुसॉद में रखा जाएगा. फिर वहां से बर्लिन, सिंगापुर, हॉन्गकॉन्ग सहित दुनिया के 6 शहरों के खुल रहे मैडम तुसॉद संग्राहलयों में घूमता हुआ आखिर में लंदन के संग्रहालय में लगेगा.”

‘बॉडीगार्ड’

करीना कपूर की नई फ़िल्म ‘बॉडीगार्ड’ 31 अगस्त को रिलीज़ हो रही है. फ़िल्म में करीना के साथ सलमान ख़ान मुख्य भूमिका में हैं.

फ़िल्म के बारे में बात करते हुए करीना ने कहा, “बॉडीगार्ड मेरे और सलमान ख़ान की लव स्टोरी है. सलमान ने पिछले कुछ समय में कॉमेडी और ऐक्शन फ़िल्में की हैं लेकिन लवस्टोरी में काम नहीं किया है. इस फ़िल्म में भी कॉमेडी और ऐक्शन तो है लेकिन मूलत: ये एक ‘इमोशनल’ फ़िल्म है.”

करीना मानती हैं कि फ़िल्म भारत के बाहर भी दर्शकों को पसंद आएगी. उन्होंने कहा, “मैं मानती हूं कि दर्शक, चाहे वो भारत में हों या यूके या फिर अमरीका में, वो फ़िल्मों के ज़रिए मनोरंजन चाहते हैं. लोग फ़िल्मों से कोई सीख या संदेश नहीं चाहते, वो फ़िल्मों के ज़रिए अपनी रोज़मर्रा की ज़िंदगी से दूर जाना चाहते हैं. ‘बॉडीगार्ड’ ऐसी ही फ़िल्म है जिसमें भरपूर मनोरंजन है, ये कोई गंभीर फ़िल्म नहीं है.”

संबंधित समाचार