मैं एक्सपेरिमेंट्स से घबराता नहीं हूं: जॉन

जॉन अब्राहम
Image caption फोर्स के लिए जॉन ने अपनी बॉडी पर खासतौर पर काम किया.

फ़िल्म ‘जिस्म’ से हिंदी सिनेमा जगत में कदम रखने वाले अभिनेता जॉन अब्राहम ने जहां एक ओर ‘धूम’ और ‘दोस्ताना’ जैसी कमर्शियल फ़िल्में की हैं वहीं उन्होंने ‘वॉटर’ और ‘नो स्मोकिंग’ जैसी लीक से हटकर फ़िल्में भी की है. जॉन कहते हैं वो एक्सपेरिमेंट करने से डरते नहीं हैं.

अगर जॉन अब्राहम की माने तो जितने भी युवा फ़िल्म निर्देशक हैं सभी उन्हीं के पास आते हैं. क्योंकि उन्हें पता है कि जॉन रिस्क लेने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं.

साथ ही जॉन कहते हैं, ''कई बार मीडिया में लिखा जाता है की जॉन एक्सपेरिमेंटल फ़िल्में करते हैं और अक्सर उनकी फ़िल्में बॉक्स ऑफिस पर पिट जाती हैं. लेकिन इस बात से मुझे डर नहीं लगता. मेरी बॉलीवुड में अपनी एक जगह है. अब तो मैं अपनी फ़िल्मों के साथ और भी एक्सपेरिमेंट करना चाहता हूं.''

जॉन की नई फ़िल्म फोर्स 30 सितंबर को रिलीज़ हो रही है. फोर्स एक तमिल फ़िल्म का रिमेक है. इस फ़िल्म के लिए जॉन ने अपनी बॉडी पर खासतौर पर काम किया. जॉन कहते हैं क्योंकि ये एक एक्शन फ़िल्म है तो फ़िल्म के निर्देशक निशिकांत कामत चाहते थे कि वो हॉलीवुड अभिनेता सिल्वेस्टर स्टेलॉन की तरह अपनी बॉडी बनाएं.

जॉन कहते हैं, ''सिल्वेस्टर स्टेलॉन की तरह अपने शरीर को तराशना आसान नहीं था. इस काम में मुझे आठ महीने का समय लगा. मैंने कड़ी मेहनत की, अपनी हर सीमा को तोडा. कभी कभी मैं हार भी मान जाता था, लेकिन मेरे ट्रेनर ने मुझे हारने नहीं दिया. वो मुझे हर बार बस यही कहते थे की जॉन थोड़ी मेहनत और, बस थोड़ी मेहनत और. और देखिये आज परिणाम आप सबके सामने है.''

साथ ही जॉन मानते हैं कि फ़िल्में एक विज़ुअल मीडियम है, इसलिए पर्दे पर अच्छा दिखना बहुत ज़रूरी है. जॉन अपने समकालीन अभिनेताओं के बारे में कहते हैं, ''सलमान ख़ान, आमिर ख़ान, अजय देवगन और ह्रितिक रोशन सभी पर्दे पर बहुत अच्छे दिखते हैं. सभी ने अपनी बॉडी और फिटनेस पर काम किया है. मैं उम्मीद करता हूं कि मैं भी इन सब की बराबरी कर पाऊं.''

संबंधित समाचार