सबसे महंगी 'रा.वन' हुई रिलीज़

रा.वन इमेज कॉपीरइट bbc
Image caption दीवाली पर रिलीज़ हो रही है रा.वन.

दीवाली के अवसर पर रिलीज़ हुई शाहरुख खान की नई फ़िल्म रा-वन पर ‘ब्रांड शाहरुख’ हावी नज़र आते हैं.

हिंदी सिनेमा के इतिहास की सबसे महंगी फ़िल्म कही जा रही रा वन की कहानी जो भी हो लेकिन एक बात तय है कि इसमें जो भी है वो शाहरुख ही है.

फ़िल्म के प्रचार-प्रसार के लिए शाहरुख़ ख़ान 20 से भी ज़्यादा ब्रांड्स के साथ करार कर चुके हैं. फ़िल्म के सैटेलाइट अधिकार ख़ासी ऊंची क़ीमत पर पहले ही बेचे जा चुके हैं. फ़िल्म की लागत का एक बड़ा हिस्सा स्पेशल इफ़ेक्ट्स के इस्तेमाल पर खर्च किया गया है.

इमेज गुरू दिलीप चेरियन कहते हैं "दो साल बाद पर्दे पर वापसी कर रहे शाहरूख़ ख़ान के लिए अब परिस्थितियां पहले जैसी नहीं है और उनके लिए ज़रूरी था कि ब्रैंड शाहरूख़ को पुनर्स्थापित किया जाए."

ग़ौरतलब है कि इससे पहले शाहरुख़ ख़ान की फ़िल्म माइ नेम इज़ ख़ान फ़रवरी 2010 में रिलीज़ हुई थी.

ब्रांड ज़रुरी

दिलीप मानते हैं कि शायद फ़िल्म में पैसा लगाने वालों समेत शाहरूख़ भी चाहते हैं कि अत्याधुनिक तकनीक की दुनिया में सांस लेने वाली युवा पीढ़ी का ध्यान आकर्षित किया जाए.

एडमैन प्रहलाद कक्कड़ की राय भी कुछ दिलीप चेरियन जैसी ही है. उनके मुताबिक़ ये शाहरुख़ के लिए बहुत बड़ी फ़िल्म है क्योंकि लंबे समय से उनकी कोई फ़िल्म रिलीज़ नहीं हुई. ये बॉलीवुड के लिहाज़ से भी बहुत बड़ी फ़िल्म है. इसलिए सभी पर बहुत दबाव है.

प्रह्ललाद मानते हैं कि शाहरुख़ ने इस फ़िल्म के ज़रिए लंबा जुआ खेला है. वो 'रा.वन' को बतौर फ़िल्म नहीं बल्कि बतौर ब्रांड स्थापित करना चाहते हैं. अगर उनका ये दांव चल गया तो रा.वन खिलौने, रा.वन टी शर्ट्स, रा.वन कॉमिक्स और ना जाने क्या-क्या मार्केट में आ जाएगा और शाहरुख़ को बेशुमार कमाई होगी.

विशेषज्ञों के मुताबिक़ फ़िल्म की लागत 125 करोड़ रुपए से भी ज़्यादा है. भारत में फ़िल्म तीन हज़ार से भी ज़्यादा स्क्रीन पर प्रदर्शित हो रही है और विदेश में क़रीब 400 स्क्रीन्स पर रिलीज़ हो रही है. ये थ्री डी संस्करण के साथ भी रिलीज़ हो रही है.

अपनी इस सबसे महत्तवकांक्षी फ़िल्म के लिए फ़िल्म के निर्माता और अभिनेता शाहरुख़ ख़ान कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं. उन्होंने भारत के कई हिस्सों में भ्रमण किया. ढेर सारे प्रेस कॉन्फ्रेंस किए. जिसमें वो लोगों को फ़िल्म की ख़ासियत, उसके पात्रों के बारे में और अपने वीएफ़एक्स स्टूडियो की बात करते दिखे.

फ़िल्म का प्रीमियर दुबई में हो चुका है. लंदन में भी 25 अक्टूबर को इसका प्रीमियर हो रहा है.

शाहरुख़ ख़ान कहते हैं, "ये फ़िल्म मेरा एक बहुत बड़ा सपना है. हो सकता है ये फ़िल्म कई लोगों को पसंद आए. हो सकता है कुछ लोगों को पसंद ना भी आए. लेकिन हिंदी सिनेमा के इतिहास में रा.वन मील का पत्थर ज़रूर साबित होगी."

रा.वन से उम्मीद

अब तक आमिर ख़ान की 3 इडियट्स को कमाई के लिहाज़ से हिंदी सिनेमा की सबसे बड़ी हिट फ़िल्म माना जाता है. आंकड़ों के मुताबिक इस फ़िल्म ने 300 करोड़ से ज़्यादा की कमाई की है.

सलमान ख़ान की बॉडीगार्ड और दबंग भी ख़ासी बड़ी हिट फ़िल्में साबित हो चुकी हैं. ऐसे में शाहरुख़ की रा.वन क्या इन फ़िल्मों से आगे निकल पाएगी.

फ़िल्म व्यापार विशेषज्ञ कोमल नाहटा के मुताबिक़ थ्री इडियट्स को पछाड़ने के लिए फ़िल्म को लंबे वक़्त तक बॉक्स ऑफ़िस पर राज करना होगा.

नाहटा के मुताबिक़ वैसे रा.वन रिलीज़ से पहले ही अपनी लागत का ख़ासा बड़ा हिस्सा सैटेलाइट राइट्स और म्यूज़िक राइट्स से वसूल चुकी है. और रिलीज़ के पहले सप्ताह ही दर्शकों का इसे प्यार मिला तो ये अपनी पूरी लागत वसूल कर लेगी.

लेकिन ऐसे में एक सवाल और उठता है कि क्या धुआंधार मार्केटिंग और प्रमोशन के इस दौर में फ़िल्म की कहानी और इसकी गुणवत्ता के साथ समझौता नहीं किया जा रहा है.

पिछले कुछ सालों की बेहद बड़ी हिट फ़िल्में जैसे गोलमाल 3, दबंग, रेडी और बॉडीगार्ड को फ़िल्म समीक्षकों ने सिरे से नकारा लेकिन इन फ़िल्मों ने पहले ही हफ़्ते कमाई के नए-नए रिकॉर्ड्स बनाए.

समीक्षकों के मुताबिक़ इन फ़िल्मों के हिट होने में बड़ी स्टार कास्ट और प्रमोशन का ख़ासा योगदान था.

कोमल नाहटा कहते हैं, "ये सच है कि फ़िल्मों की गुणवत्ता प्रभावित हो रही है. क्योंकि हर किसी को लगता है कि चाहे कुछ भी हो जाए किसी तरह से दर्शकों को पहले तीन दिन तक सिनेमाहॉल में खींच लो. चाहे ज़बरदस्त प्रमोशन के ज़रिए या म्यूज़िक के ज़रिए. फ़िल्म पहले ही हफ़्ते पैसा कमा ले. बाद में कौन देखता है."

'ख़ानों का बोलबाला'

इमेज कॉपीरइट bbc
Image caption रा.वन हिंदी सिनेमा की सबसे महंगी फ़िल्म है. इसकी लागत 125 करोड़ रुपए से ज़्यादा बताई जा रही है.

पिछले कई सालों की सबसे बड़ी हिट फ़िल्मों पर नज़र डालें तो पाएंगे कि ख़ान तिकड़ी, आमिर, शाहरुख़ और सलमान का बॉक्स ऑफ़िस पर सिक्का लगातार चले जा रहा है.

आमिर की 3 इडियट्स, शाहरुख़ की माइ नेम इज़ ख़ान और सलमान की दबंग, रेडी और बॉडीगार्ड ने ख़ासी कमाई की.

एक और दिलचस्प तथ्य ये है कि हिंदी सिनेमा के ये तीन सितारे अपनी बड़ी और महत्वकांक्षी फ़िल्में साथ में रिलीज़ करने से बचते हैं.

सामान्य तौर पर दीवाली पर शाहरुख़ ख़ान की फ़िल्में रिलीज़ होती हैं. जैसे डॉन, ओम शांति ओम और अब रा.वन.

वहीं सलमान ख़ान को ईद ख़ासी भाती है. उनकी बड़ी हिट फ़िल्में जैसे वॉन्टेड, दबंग और बॉडीगार्ड ईद पर रिलीज़ हुईं थीं.

क्रिसमस की छुट्टियों का वक़्त जैसे आमिर ख़ान ने अपने लिए सुरक्षित कर रखा हो. उनकी बड़ी कामयाब फ़िल्में जैसे तारे ज़मीन पर, ग़जनी और 3 इडियट्स क्रिसमस पर ही रिलीज़ हुईं थीं.

प्रह्लाद कक्कड़ कहते हैं कि आने वाले पांच-दस सालों में सिर्फ़ आमिर और शाहरुख़ जैसे बड़े सितारे पूरी हिंदी फ़िल्म इंडस्ट्री को चलाएंगे.

संबंधित समाचार