'मैं अपनी उम्मीदों पर ख़रा उतरना चाहता हूं'

रणबीर कपूर और नर्गिस फाख़री इमेज कॉपीरइट pr
Image caption 11.11.11 को रिलीज़ हो रही है रॉकस्टार

अगर आप किसी फ़िल्मी ख़ानदान से हों तो अपने आप ही लोग आपसे उम्मीद लगा बैठते हैं. और अगर कहीं वो फ़िल्मी ख़ानदान 'कपूर ख़ानदान' हो फिर तो क्या ही कहने.

ऐसा ही कुछ होता है रणबीर कपूर के साथ भी. पृथ्वीराज कपूर से लेकर राज कपूर तक, राज कपूर से लेकर शम्मी कपूर तक, शम्मी कपूर से लेकर ऋषि कपूर तक, रणबीर के परिवार में एक नहीं बल्कि कई सुपरस्टार रहे हैं, ऐसे में लोगों द्वारा रणबीर की तुलना इन सभी से करना एक बहुत ही सहज बात है. लेकिन इस तुलना का क्या असर होता है रणबीर कपूर पर?

रणबीर कहते हैं, ''मैं अपने ऊपर कोई दबाव महसूस नहीं करता. न मुझे लोगों की उम्मीदों से डर लगता है न ही किसी भी प्रकार की तुलना से. लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि मुझे अपनी ज़िम्मेदारी का एहसास नहीं है.''

रणबीर कहते हैं, '' मैं एक ऐसे परिवार से हूं जो पिछले 80 वर्षों से भारतीय सिनेमा की समृद्धि के लिए कार्य कर रहा है लेकिन ये बात मुझ पर किसी भी तरह का दबाव नहीं डालती. मैं चाहता हूं कि मेहनत, लगन और अपनी कला से इंडस्ट्री में अपनी एक जगह बनाऊं. ताकि मेरे परिवार को मुझ पर गर्व हो. मेरी अपने आप से जो उम्मीदें हैं मैं उन पर ख़रा उतरना चाहता हूं. ''

रणबीर की फ़िल्म रॉकस्टार 11 नवंबर को रिलीज़ हो रही है. और इन दिनों रणबीर कपूर रॉकस्टार की पूरी टीम के साथ फ़िल्म को प्रमोट करने में लगे हुए हैं. रणबीर कहते हैं वो जहां भी जा रहे हैं वहां उन्हें लोगों का ढेर सारा प्यार मिल रहा है. रणबीर मानते हैं कि रॉकस्टार के ज़रिये लोगों को एक मनोरंजक फ़िल्म देना उनका फ़र्ज़ बनता है.

इम्तिआज़ अली द्वारा निर्देशित रॉकस्टार स्वर्गीय शम्मी कपूर की आखि़री फ़िल्म है. शम्मी कपूर के बारे में बात करते हुए रणबीर कहते हैं, ''शम्मी कपूर एक असली रॉकस्टार थे. ये मेरा सौभाग्य है कि मुझे उनके साथ काम करने का मौका मिला.''

शम्मी जी की तारीफ़ करते हुए रणबीर ने बताया कि कैसे इस उम्र में भी शम्मी कपूर अपने काम को लेकर उत्साहित रहते थे. रणबीर कहते हैं, ''शम्मी जी जब भी रॉकस्टार के सेट पर आते थे तो उनमें ठीक उसी तरह का उत्साह और घबराहट देखी जा सकती थी जैसी की किसी नए कलाकार में होती है. सेट पर वो सब लड़कियों से फ्लर्ट भी कर लेते थे. अपने ज़माने की कहानियां सुनाया करते थे. इम्तिआज़ से अक्सर कहते थे कि फ़िल्म में उनका रोल बड़ा दिया जाए. उनका काम के प्रति जो जज़्बा था वो ही उन्हें महान बनता है.''

रॉकस्टार से बॉलीवुड में कदम रख रही हैं नर्गिस फाख़री.

संबंधित समाचार