मेरी बीवी रोमांटिक नहीं निकली: आमिर ख़ान

 सोमवार, 26 दिसंबर, 2011 को 18:38 IST तक के समाचार
आमिर खान और किरण राव

आमिर और किरण की शादी 2005 में हुई थी.

अभिनेता आमिर ख़ान कहते हैं कि वो चाहते थे कि उनकी पत्नी किरण राव फ़िल्म 'धोबी घाट' में यास्मिन का किरदार निभाएं ताकि आमिर को पर्दे पर उनके साथ रोमांस करने का मौका मिले.

हाल ही में मुंबई में फ़िल्म 'धोबी घाट' की डीवीडी को रिलीज़ करते हुए आमिर बोले, ''मैं चाहता था कि यास्मिन का किरदार किरण निभाएं. जब मैं किरण को फ़िल्म की पटकथा पढ़ते देखता था तो मुझे लगता था कि किरण इतने अच्छे भावों से यास्मिन का किरदार पढ़ रही हैं, उनकी ज़बान भी साफ़ है तो फ़िल्म में उन्हें ही ये किरदार निभाना चाहिए.''

साथ ही आमिर ये भी कहते हैं, ''मैंने किरण से कहा कि आपका अच्छा खासा चेहरा है, अभिनय भी आप अच्छा कर लेती हैं तो आप ही क्यों नहीं कर लेती ये रोल. और मैं भी चाहूंगा कि मैं आपके साथ पर्दे पर भी रोमांस करू. लेकिन क्या करूं मेरी बीवी ने मुझे ये मौका नहीं दिया. किरण रोमांटिक नहीं निकली.''

आमिर कहते हैं कि वो चाहेंगे कि भविष्य में वो किसी फ़िल्म में किरण को बतौर निर्देशक डायरेक्ट करें.

आमिर कहते हैं, ''किरण एक बेहतरीन अदाकारा हैं. मैं तो कहूंगा कि किरण मुझसे भी अच्छी कलाकार हैं. मैं उम्मीद करता हूं कि एक दिन किरण को हम बड़े पर्दे या फिर रंगमंच पर देखें. मैं तो उन्हें बहुत बार कह चूका हूं कि उन्हें अभिनय के बारे में सोचना चाहिए क्योंकि वो बहुत ही प्रतिभाशाली हैं. अब वो क्यों अभिनय से दूर रहना चाहती हैं ये सवाल तो हमें किरण से ही पूछना चाहिए.''

अपने पति आमिर ख़ान के इस सवाल का जवाब देते हुए किरण कहती हैं, ''मैंने स्कूल और कॉलेज में अभिनय किया है. मुझे अभिनय पसंद भी है. मैं रंगमंच पर अभिनय करना चाहूंगी लेकिन मैं फ़िल्मों के बारे में नहीं कह सकती, वैसे भी फ़िल्मों के लिए आपको अलग तरह की काबिलियत चाहिए. मैंने फ़िल्में बनाने में यकीन रखती हूं.''

चलिए फिलहाल फ़िल्मों में अभिनय न सही निर्देशन ही सही लेकिन अगर कभी किरण ने फ़िल्मों में अभिनय करने का फैसला लिया तो किस अभिनेता के साथ काम करना चाहेंगी वो? इस सवाल का जवाब देते हुए किरण कहती हैं, मैं आमिर ख़ान के साथ काम करना चाहूंगी. इरफ़ान ख़ान और दीपक डोबरियाल भी अच्छे कलाकार हैं.''

आमिर और किरण हाल ही में एक बेटे के माता पिता बने हैं. आमिर कहते हैं, ''पिता बनना अपने आप में एक बेहद ही सुख़द एहसास है. मैं और किरण बहुत ही खुश हैं. एक बच्चे का पैदा होना किसी करिश्मे से कम नहीं है. मुझे अपने बेटे के साथ वक़्त बिताना बहुत अच्छा लगता है. मुझे लगता है जितना भी समय मैं अपने बेटे आज़ाद को दे रहा हूं वो कम है. हालांकि अभी वो बहुत छोटा है लेकिन मुझे उसके साथ खेलना बहुत पसंद है.''

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.