'सितारों के बच्चों को करना पड़ता है ज्यादा संघर्ष'

अनिल कपूर, बिपाशा बसु इमेज कॉपीरइट bbc

बॉलीवुड अभिनेता अनिल कपूर मानते हैं कि फिल्म स्टार्स के बच्चों को फिल्म जगत में ज्यादा संघर्ष करना पड़ता है.

अनिल कपूर इसकी वजह बताते हुए कहते हैं कि स्टार किड्स से लोगों को उम्मीदें कहीं ज्यादा होती हैं.

अपनी आगामी फिल्म तेज के सिलसिले में पत्रकारों से रूबरू हुए अनिल कपूर ने कहा, "क्योंकि वो सितारों के बच्चे हैं इसलिए उन्हें लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरना होता है और मुझे लगता हैं कि उनका संघर्ष हमसे ज्यादा है."

गौरतलब है कि अनिल कपूर के तीन बच्चों में से एक सोनम कपूर अभिनेत्री हैं, दूसरी बेटी रिया कपूर फ़िल्म निर्माता बन गई हैं जबकि उनका बेटा अभी पढ़ाई कर रहा है.

अनिल कपूर कहते हैं, "मुझे लगता है कि सोनम ने शानदार काम किया हैं और बहुत सारी मेहनत की है. स्टार किड होने के नाते जब आप अच्छा करते हैं तो लोग आपसे और अधिक अच्छे की उम्मीद रखते हैं. मुझे लगता है कि सोनम से भी लोगों को उम्मीदें हैं."

सोनम कपूर को बॉलीवुड में आए पांच साल हो चुके हैं लेकिन फिर भी सोनम के हिस्से में ज्यादा कामयाबी नहीं आ पाई है. उन्होंने 2007 में निर्देशक संजय लीला भंसाली की फ़िल्म सांवरिया में रणबीर कपूर के साथ अपने फ़िल्मी सफर की शुरूआत की थी.

फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सफल नहीं रही. इतना ही नहीं सोनम कपूर की अगली फिल्म दिल्ली-6 भी बॉक्स ऑफिस पर नाकाम रही थी.

इसके बाद आई फ़िल्में आएशा, थैंक्यू, मौसम, प्लेयर्स भी दर्शकों को प्रभावित करने में नाकामयाब रही थी.

लेकिन इस सब के बावजूद सोनम के बचाव में अनिल कपूर कहते हैं , "जब सोनम ने सांवरिया और दिल्ली 6 जैसी फ़िल्में की तो लोगों ने कहा कि सोनम बहनजी जैसे रोल कर रही हैं और जब सोनम ने आएशा जैसा ग्लैमरस रोल किया तो लोगों ने कहा कि उन्हें साधारण रोल करने चाहिए."

अनिल कपूर कहते हैं कि इन सब आलोचनाओं के बावजूद सोनम कपूर ने सांवरिया से लेकर अब तक अपने आप को साबित किया है.

संबंधित समाचार