इस फिल्म ने मेरा वज़न घटा दिया:एकता कपूर

एकता कपूर
Image caption क्या सूपर कूल हैं हम की निर्माता हैं एकता कपूर

आजकल एकता कपूर का वज़न घट रहा है. कारण - उनकी आने वाली फिल्म "क्या सूपर कूल हैं हम".

एकता का कहना है, "ये फिल्म मेरा वज़न घटा रही है, इसलिए नहीं कि तथाकथित आपत्ति जताने वाले लोग इस फिल्म को देखकर क्या कहेंगे बल्कि इसलिए कि जिन्हें पहला भाग पसंद आया था वो क्या कहेंगे."

फिल्म और टेलीविजन निर्माता एकता कपूर की फिल्म "क्या सूपर कूल हैं हम" अपने बोल्ड विषयवस्तु और चित्रण के लिए काफी चर्चा में है. इसके प्रोमोज़ ने इसे सुर्खियों में ला दिया है.

बावजूद इसके एकता किसी भी तरह के स्पष्टीकरण देने के मूड में नजर नहीं आ रही है . एकता के मुताबिक, "मैं कोई स्पष्टीकरण देना नहीं चाहती. अगर आपको फिल्म पसंद नहीं आए तो मैं माफी चाहूँगी, अगर पसंद आए तो मैं आपसे प्यार करूंगी."

एकता ने साफ किया, "ये एक एडल्ट कॉमेडी है, पिछले साल डैल्ही बेली भी आई थी, जो ये साबित करती है कि भारतीयों के पास भी अच्छा सेंस ऑफ ह्यूमर है. ये फिल्म युवाओं के लिए है और उनके लिए है जिन्हें पहला भाग पसंद आया था. मुझे लगता है किसी भी प्रकार का अतिसंवेदनशील व्यक्ति ये फिल्म देखने ना आए."

तुषार कपूर और रितेश देशमुख

इस फिल्म का पहला भाग "क्या कूल हैं हम" 2005 में रिलीज हुआ था जिसने समीक्षकों की कड़ी आलोचनाओं का सामना किया था. एकता की मानें तो "हमें दूसरा भाग बनाने की हिम्मत जुटाने में सात साल लगे और अब जब हमने ये कर दिखाया तो हमें किसी की परवाह नहीं है".

तुषार कपूर और रितेश देशमुख अभिनीत इस फिल्म के प्रोमो में दिखाया जा रहा है कि किस तरह फिल्म को लेकर पूर भारत में बवाल मच गया है.

शायद एकता को भी अंदाज़ा है कि रिलीज के बाद ये फिल्म कई आपत्तियां झेलने वाली है इसलिए एकता कहती हैं, "इस फिल्म में वो सब कुछ है जो शायद कई लोगों को चुभ सकता है और इसलिए मैंने और रितेश ने फिल्म रिलीज होने के बाद शहर छोड़ने का फैसला कर लिया है".

एकता ने ये भी कहा, "इस फिल्म में मुझ पर भी जोक बरसाया गया है लेकिन इसमें किसी तरह का सस्तापन नहीं है. ये फिल्म अमेरिकन पाई है या यूं कहूं कि ये भारत का अमेरिकन पाई को एक जवाब है".

संबंधित समाचार