गैंग्स ऑफ वासेपुर- दिल जीतेगा लोगों का?

 बुधवार, 8 अगस्त, 2012 को 09:46 IST तक के समाचार
गैग्स ऑफ वासेपुर

गैग्स ऑफ वासेपुर के दूसरे हिस्से में मुख्य भूमिका नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी की है

गैंग्स ऑफ वासेपुर का दूसरा हिस्सा आज रीलिज हो रहा है और फिल्म को लेकर लोगों में खासा उत्साह है.

क्लिक करें अनुराग कश्यप के निर्देशन में बनी यह भारत की पहली फिल्म है जो दो हिस्सों में बनी है और एक महीने के अंतराल पर रीलिज़ हुई है.

यह फिल्म अपने गानों, अपनी पटकथा, भाषा और विषय वस्तु को लेकर शुरु से ही चर्चा में रही है.

झारखंड के धनबाद में कोयला माफिया, राजनीति, ठेकेदारी, गुंडागर्दी के मुद्दों पर बनी इस फिल्म ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति बटोरी है और पिछले दिनों कान महोत्सव में भी दिखाई गई थी.

उल्लेखनीय है कि यह कहानी दो परिवारों के आपसी वैमनस्य के बीच राजनीति, कोयले की दलाली और गुंडागर्दी की चर्चा करती है.

एक हद तक देखा जाए तो इस फिल्म के कई किरदार असली चरित्रों से प्रेरित हैं और कई घटनाओं के बारे में लोगों का कहना है कि पूर्व में ऐसा हो चुका है.

अनुराग के अनुसार फिल्म के दूसरे हिस्से में छोटे शहरों में लोगों की भारतीय सिनेमा के प्रति दीवानगी को भी काफी जगह दी गई है.

फिल्म की तारीफ में समाजशास्त्रियों से लेकर फिल्म समीक्षकों ने बहुत कुछ लिखा है. शिव विश्वनाथन जैसे बुद्धिजीवियों ने इस फिल्म को अपने किस्म की अनूठी फिल्म करार दिया है जबकि कई लोग ये भी मानते हैं कि ये अनुराग की सर्वश्रेष्ठ फिल्मों में से नहीं है.

फिल्म के पहले हिस्से में जहां मुख्य भूमिका क्लिक करें मनोज वाजपेयी ने निभाई थी. दूसरे हिस्से में मुख्य भूमिका में क्लिक करें नवाजुद्दीन सिदद्की हैं जिनके चरित्र के बारे में कहा जाता है कि वो एक गैगस्टर पर आधारित जो अमिताभ की नकल करता है.

कुछ ऐसा ही महिला किरदारों के बारे में भी कहा जा रहा है कि एक किरदार माधुरी दीक्षित की फैन है.

दूसरे भाग का गाना तार बिजली से पतले हमारे पिया भी लोगों में काफी लोकप्रिय हो रहा है जिसे भोजपुरी गायिका शारदा सिन्हा ने आवाज़ दी है.

फिल्म के बोल काफी राजनीतिक हैं और कहा जाता है कि ये बिहार की स्थिति को दर्शाता है कि उससे किस तरह का भेदभाव हुआ है आजादी के बाद.

क्लिक करें फिल्म का पहला भाग जब रीलिज़ हुआ था तो हिंदी और अंग्रेज़ी मीडिया ने इसकी समीक्षाएं की थीं और इन समीक्षाओं की समीक्षा मीडिया की समीक्षा करने वाली पत्रिका क्लिक करें हूट ने की थी.

माना जा रहा है कि दूसरे हिस्से को भी देखने लोग आएंगे और इसमें दिखाई जाने वाली हिंसा, कथित रुप से अश्लील भाषा और अनुराग के निर्देशन पर एक बार फिर विस्तार से चर्चा होगी.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.