हर लड़की को रुलाया नहीं तो कहना: आशा भोसले

 सोमवार, 10 सितंबर, 2012 को 11:33 IST तक के समाचार
आशा भोसले

आशा भोसले इन दिनों टीवी पर सिंगिंग शो जज करती देखी जा सकती हैं.

आशा भोसले 80 साल की उम्र में फिल्मों में बतौर अभिनेत्री अपने करियर की शुरुआत करने जा रही हैं. उनकी पहली फिल्म एक मराठी फिल्म है जिसका नाम है 'माई'. आशा ताई का दावा है कि वो अपने अभिनय से आपको रुला कर ही मानेंगी.

'माई' में अपने अभिनय को लेकर आशा जी बहुत आश्वस्त हैं. अब ये उनका आत्मविश्वास ही तो है जो उन्हें कुछ ये कहने पर मजबूर कर रहा है, ''आप लोग खुद फिल्म देखिएगा लेकिन मैं ये ज़रूर कह सकती हूं कि अगर फिल्म देखने वाली हर लड़की की आंख में आंसूं नहीं आए तो मेरा नाम आशा नहीं.''

आशा भोसले ने हाल ही में आठ सितंबर को अपना 80वां जन्मदिन मनाया. हाल ही में मुंबई में 'माई' का फर्स्ट लुक लॉन्च किया गया और इसी मौके पर आशा जी मिली कुछ पत्रकारों से.

इस मौके पर जब उनसे पूछा कि भई 80 साल की उम्र में भी वो इतनी चुस्त-दुरुस्त कैसे हैं, तो जवाब में कुछ ये बोली आशा ताई, ''मन की इच्छा-शक्ति बहुत बड़ी चीज़ है. मेरे इस उत्साह के पीछे, मेरी इस ताकत के पीछे कोई राज नहीं है.''

भले ही आशा जी अपनी इस चुस्ती के पीछे का राज न बताना चाहती हों लेकिन आज भी उनकी आवाज इतनी मधुर कैसे है इसका राज तो वो बता ही सकती हैं.

वो कहती हैं, ''अपनी आवाज और अपने गले को दुरुस्त रखने के लिए मैं रोज सुबह रियाज करती हूं. रियाज करने की आदत है इसीलिए आज भी गला सही है अगर मैं रियाज न करती तो कबका गला बंद हो चूका होता.''

"मेरे जैसा कोई नहीं है क्योंकि मेरे जितना वर्सटाइल कोई है ही नहीं. मैंने हर तरह का, हर भाषा का गाना गया है. मैंने रूस जाकर रशियन में गया है, स्पेन जाकर स्पैनिश में गया है, लंदन में अंग्रेजी में गया है. मैंने हर सुर और लय में गाने गाए हैं. कैबरे से लेकर के शास्त्रीय शैली सभी तरह के गाने गाए हैं."

आशा भोसले

आशा ताई की आवाज में बेशक एक जादू है पर क्या वो अपनी आवाज जैसा जादू आज की किसी गायिका में देखती हैं.

सवाल का जवाब शायद आजकल के गाने वालों के गले के नीचे न उतरे. आशा भोसले कहती हैं, ''मेरे जैसा कोई नहीं है क्योंकि मेरे जितना वर्सटाइल कोई है ही नहीं. मैंने हर तरह का, हर भाषा का गाना गया है. मैंने रूस जाकर रशियन में गया है, स्पेन जाकर स्पैनिश में गया है, लंदन में अंग्रेजी में गया है. मैंने हर सुर और लय में गाने गाए हैं. कैबरे से लेकर के शास्त्रीय शैली सभी तरह के गाने गाए हैं.''

आशा जी आगे कहती हैं, ''मुझे अभी तक तो ऐसा कोई नहीं दिखा जिसने ये सब किया हो. मैं खुद पर गर्व नहीं कर रही हूं पर आपको सच्चाई बता रही हूं. मुझे अब तक ये सभी गुण किसी और में नज़र नहीं आए हैं.''

आशा भोसले आज जिस मकाम पर हैं उस जगह पहुंचने की तम्मना शायद हर कलाकार की हो. पर क्या आज भी आशा जी की कोई तम्मना बाकी है. क्या चाहती हैं वो अपने आनेवाले जीवन से?

इस सवाल का जवाब देते हुए आशा जी कहती हैं, ''मेरी तो जीवन से और आप सब से एक ही आशा है कि जब तक मैं जिन्दा हूं मुझे आप सब का प्यार मुझे मिलता रहे.''

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.