मनोज रैना: बीबीसी से केबीसी तक

 मंगलवार, 11 सितंबर, 2012 को 11:44 IST तक के समाचार
मनोज कुमार रैना और अमिताभ बच्चन

बचपन से मनोज का सपना था अमिताभ बच्चन से मिलने का.

कौन बनेगा करोड़पति के छठे सीज़न को अपना पहला करोड़पति मिला जम्मू-कश्मीर के मनोज कुमार रैना के रूप में. ज़ाहिर है कि एक करोड़ रूपए जीत कर फूले नहीं समा रहे मनोज. लेकिन इस ख़ुशी में भी बीबीसी को भूले नहीं हैं वो.

जीत के बाद बीबीसी से बात करते हुए मनोज बोले, ''बीबीसी ज्ञान प्राप्ति का एक पात्र है. बीबीसी की जितनी भी वेबसाइट हैं, जितने भी समाचार बुलेटिन हैं सभी से देश और दुनिया की जानकारी मिलती है. हम तो बीबीसी के हर समाचार बुलेटिन को सुनते हैं. मेरे पिताजी भी बीबीसी के बहुत शौक़ीन रहे हैं.

वो कहते हैं, ''जम्मू-कश्मीर में बीबीसी उर्दू को खूब सुना जाता है. दूर-दराज़ इलाकों में जहाँ टीवी नहीं है वहां बीबीसी रेडियो ज्ञान प्राप्त करने का एक बेहतरीन तरीका है.''

बीबीसी से मिले ज्ञान का खूब फायदा उठाया है मनोज कुमार ने. अब तो वो केबीसी में एक करोड़ रूपए जीत गए हैं, तो कैसा लग रहा है उन्हें?

इस सवाल के जवाब में मनोज रैना कहते हैं, ''पैसे जीत कर मुझे बहुत अच्छा लग रहा है. मेरी मेहनत और लगन रंग लाई है और अपने लक्ष्य को पाने में मैं कामयाब हो गया हूँ.''

मनोज आगे कहते हैं, ''केबीसी एक ऐसा मंच प्रदान करता है जहाँ आपको आपके धर्म, जाती और लिंग के आधार पर नहीं चुना जाता. आपका चुनाव सिर्फ और सिर्फ ज्ञान के आधार पर होता है.''

"मेरा मन कई बार दुखी होता था कि मेरा चुनाव क्यों नहीं हो रहा है. पर फिर मैं अपने मन को समझाता था कि हार नहीं माननी है. और देखिए आखिरकार मैंने अपने लक्ष्य को पा ही लिया. मैं तो बहुत किस्मतवाला हूँ. पैसा तो मिला ही साथ ही सदी के महानायक अमिताभ बच्चन से मिलने का चांस भी मिला."

मनोज कुमार रैना

मनोज पिछले 12 सालों से केबीसी में भाग लेने की कोशिश कर रहे थे. तो क्या इस दौरान कभी निराश नहीं हुए वो?

मनोज कहते हैं, ''मेरा मन कई बार दुखी होता था कि मेरा चुनाव क्यों नहीं हो रहा है. पर फिर मैं अपने मन को समझाता था कि हार नहीं माननी है. और देखिए आखिरकार मैंने अपने लक्ष्य को पा ही लिया. मैं तो बहुत किस्मतवाला हूँ. पैसा तो मिला ही साथ ही सदी के महानायक अमिताभ बच्चन से मिलने का चांस भी मिला.''

अमिताभ बच्चन से मिलने का सपना तो करोड़ों लोग देखते हैं तो जब मनोज रूबरू हुए अमिताभ से तो वो पल कैसा था?

मनोज कहते हैं, ''आज की तारीख में मैंने वो मकाम हासिल किया जहाँ मैंने न सिर्फ अमिताभ बच्चन से हाथ मिलाया बल्कि उनके गले भी लगा. पिछले तीस सालों से उनसे मिलने की मेरी तम्मना थी और जब पैसे जीतने के बाद मैंने उन्हें कस कर गले लगाया तो मेरी हर इच्छा पूरी हो गई.''

अमिताभ बच्चन के सामने 'हॉट सीट' पर बैठ कर कौन बनेगा करोड़पति खेलते हुए क्या घबराहट नहीं हुई मनोज को? जवाब में वो कहते हैं, ''हॉट सीट पर बैठने से पहले मेरी धड़कन बहुत तेज़ थी. पर जैसे ही मैं हॉट सीट पर बैठा अमिताभ जी ने मेरे साथ ऐसा व्यवहार किया मानो मैं उनके परिवार का सदस्य हूँ. मेरी सारी घबराहट छू-मंतर हो गई और मेरे आत्मविश्वास को और बल मिला.''

तो मनोज इस एक करोड़ रूपए से क्या करने वाले हैं? वो कहते हैं, ''पहले तो मैं एक छोटा सा घर बनाऊंगा. फिर घर की जो थोड़ी बहुत ज़रूरतें हैं उन्हें पूरा करूँगा. बीस सालों से जम्मू-कश्मीर के हालात गंभीर है, मैं इन पैसों से अपने समाज के लिए भी कुछ करना चाहता हूँ.''

मनोज ये भी कहते हैं कि करोड़पति बनने के बाद उन्हें एक नया नाम और नई पहचान मिल गई है. अब वो जहाँ भी जाते हैं लोग उन्हें नाम से पहचानने लगे हैं.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.