ऋषि को नहीं पसंद रणबीर की फिल्में

 शनिवार, 15 सितंबर, 2012 को 05:55 IST तक के समाचार
ऋषि कपूर

कभी युवा दिलों की धड़कन रहे ऋषि कपूर अब चरित्र अभिनेता के तौर पर परदे पर दिख रहे हैं.

रणबीर कपूर अपने स्टाइल और एक्टिंग से बॉलीवुड में जगह बना चुके हैं, लेकिन उनके पिता ऋषि कपूर को उनकी फिल्में जरा भी पसंद नहीं आती हैं.

दिल्ली के इंडिया हैबिटेट सेंटर में इन दिनों ऋषि कपूर की कुछ चुनिंदा फिल्में दिखाई जा रही हैं. इस मौके पर दिल्ली पहुंचे ऋषि कपूर से जब रणबीर कपूर की नई फिल्म ‘बर्फी’ के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, “मुझे रणबीर की कोई फिल्म अच्छी नहीं लगती, जबकि मैं फिल्म पर ध्यान नहीं देता. मेरा तो पूरा ध्यान उसी पर रहता है.”

साथ ही ऋषि कपूर ये भी कहते हैं कि उन्हें रणबीर को कोई सलाह देने की जरूरत नहीं है.

उनके मुताबिक, “वो अपनी तरह से चीजों को कर रहा है. मुझे उसके बारे में कुछ करना नहीं है. जैसा कर रहा है बच्चा, ठीक ही कर रहा है. मैं खुश हूं.”

बेटे पर गर्व

वैसे ऋषि कपूर का कहना है कि रणबीर कपूर ने अब तक जिस तरह की फिल्में की है, वो काफी अलग हैं. उन्होंने कहा, “बर्फी से लेकर आप उसकी सभी पुरानी फिल्मों के देख लीजिए. उसने हट कर फिल्में की हैं. उसने काफी मुश्किल रोल चुने हैं, जो कि जोखिम भरा काम है और मुझे इस बात पर गर्व है कि सिने प्रेमियों ने उसे पसंद किया है.”

रणबीर कपूर

रणबीर ने 2007 में 'सावरिया' से अपने करियर की शुरुआत की.

किसी जमाने में युवा दिलों की धड़कन रहे ऋषि को अपनी फिल्में देखने का भी ज्यादा शौक नहीं है.

वो कहते हैं, “मुझे ऐसा कोई शौक नहीं है कि मैं अपनी ही फिल्में देखूं.” हालांकि अपनी पत्नी नीतू सिंह के साथ उन्हें थिएटर में जाकर फिल्म देखना खूब पसंद है.

इस फिल्म फेस्टिवल में ऋषि कपूर की जो चुनिंदा फिल्में दिखाई जाएंगी उनमें बॉबी, प्रेम रोग, हिना, प्रेम ग्रंध, दो दूनी चार और अग्निपथ शामिल हैं. ऋषि कपूर ने अब तक 130 फिल्मों में काम किया है.

जल्द ही वो करन जौहर की फिल्म 'स्टूडेंट ऑफ द ईयर' में दिखाई देंगे.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.