श्रीदेवी चाहती हैं 'मदर इंडिया' बनना

 गुरुवार, 4 अक्तूबर, 2012 को 14:11 IST तक के समाचार
अमिताभ बच्चन और श्रीदेवी

15 सालों बाद बड़े परदे पर वापसी कर रही श्रीदेवी मानती हैं कि अभी भी उन्हें अपने करियर में बहुत कुछ करना बाकी है.

बीबीसी से खास बातचीत के दौरान उन्होंने कहा, "अभी तो मैंने कुछ किया ही नहीं. कितनी बढ़िया फिल्में बन रही हैं. कितने अच्छे रचनात्मक लोग हैं. वैसे भी कलाकार की कोई हद नहीं होती. इस लिहाज से अभी मुझे बहुत कुछ करना बाकी है."

श्रीदेवी अभिनीत फिल्म इंग्लिश-विंग्लिश पांच अक्टूबर को रिलीज हो रही है.

क्लिक करें क्लिक कीजिए और देखिए तस्वीरें

जब श्रीदेवी से पूछा गया कि क्या वो किसी फिल्म का रीमेक करना चाहेंगी, तो उन्होंने बेझिझक कहा, "मैं मदर इंडिया का रीमेक करना चाहती हूं. मैंने वो फिल्म इतनी बार देखी है कि बता नहीं सकती. नरगिस जी ने क्या कमाल का अभिनय किया है. मैंने वही रोल करना चाहूंगी."

मदर इंडिया के अलावा श्रीदेवी 1987 में प्रदर्शित अपनी ही सुपरहिट फिल्म मिस्टर इंडिया के सीक्वल को लेकर भी उत्साहित हैं.

"अभी तो मैंने कुछ किया ही नहीं. कितनी बढ़िया फिल्में बन रही हैं. कितने अच्छे रचनात्मक लोग हैं. वैसे भी कलाकार की कोई हद नहीं होती. इस लिहाज से अभी मुझे बहुत कुछ करना बाकी है."

श्रीदेवी, अभिनेत्री

मिस्टर इंडिया के निर्माता बोनी कपूर थे जो अब श्रीदेवी के पति हैं. बोनी, फिल्म के सीक्वल पर काम कर रहे हैं.

क्या श्रीदेवी भी इसका हिस्सा होंगी ये पूछने पर उन्होंने कहा कि अभी फिल्म की पटकथा पर काम चल रहा है इसलिए वो कुछ नहीं कहना चाहेंगी.

केबीसी की हॉट सीट पर श्रीदेवी

श्रीदेवी, अपनी फिल्म के प्रमोशन के सिलसिले में मशहूर गेम शो कौन बनेगा करोड़पति में भी गईं थीं. तो शो में अमिताभ बच्चन के साथ हॉटसीट पर बैठने का अनुभव कैसा रहा.

श्रीदेवी बोलीं, "मैं बहुत ज्यादा नर्वस थी. लेकिन अमिताभ जी ने मुझे बहुत सहज अनुभव करा दिया. फिर तो बड़ा मजा आया उनके साथ शो करके."

केबीसी के इस एपिसोड का प्रसारण सात अक्टूबर को किया जाएगा.

अमिताभ बच्चन ने फिल्म इंग्लिश विंग्लिश में अतिथि भूमिका भी की है. श्रीदेवी के साथ उन्होंने 20 साल पहले फिल्म खुदा गवाह में आखिरी बार काम किया था.

श्रीदेवी ने बताया कि इतने सालों बाद भी अमिताभ की ऊर्जा में कोई फर्क नहीं आया और उनके साथ काम करने के अनुभव को उन्होंने बेहतरीन बताया.

श्रीदेवी मानती हैं कि इस दौर के कलाकार अपने आपको पूरी तरह से तैयार करने के बाद फिल्मों में आते थे. पहले ऐसा नहीं होता था.

साथ ही श्रीदेवी मानती हैं कि सिनेमा की तकनीक में भी जबरदस्त सुधार हुआ है.

श्रीदेवी को मौजूदा दौर में कहानी और द डर्टी पिक्चर जैसी फिल्में काफी पसंद आईं. वो विद्या बालन और रानी मुखर्जी को खासा पसंद करती हैं.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.