लोकसंगीत से रॉक तक की गूंज

वीकेंडर एनएच 7
Image caption पिछले साल हुए 'वीकेंडर एन एच 7 ' में परफोर्म करते इंडियन ओशन बैंड के राहुल राम

ग्रैमी पुरस्कार नामांकित अनुष्का शंकर, इंडियन ओशन बैंड, अमरीकी रॉक बैंड मेगाडेथ और पाकिस्तानी गायक शफ़्क़त अमानत अली समेत कई गायक और संगीतकार इस सप्ताहांत एक ही मंच पर दिखेंगे.

दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा में संगीत की ये महफ़िल जमेगी जिसमें 60 भिन्न-भिन्न शैलियों के संगीतकार शिरकत कर रहे हैं.

यहां रॉक से लेकर भारतीय लोक संगीत तक और इलेक्ट्रॉनिक शैली का संगीत, सभी कुछ सुनाई देगा.

'वीकेंडर एनएच 7'

इस समारोह को नाम दिया गया है, 'वीकेंडर एनएच 7'.

इंडियन ओशन बैंड के गायक राहुल राम कहते हैं, "ऐसे समारोह भारत में बढ़ते स्वतंत्र गायकों और संगीतकारों को पहचान दिलाते हैं. हालांकि बॉलीवुड संगीत से कोई टक्कर नहीं ले सकता लेकिन अब फ़िल्मकारों का ध्यान इन कलाकारों की तरफ़ जा रहा है क्योंकि इनके संगीत में एक क़िस्म का ताज़ापन होता है."

भारत के असम राज्य के रहने वाले पपोन भी राहुल राम की इस राय से इत्तेफाक़ रखते हैं.

पपोन का बैंड 'ईस्ट इंडिया कंपनी' भी इस समारोह में लोक संगीत की धुनों को छेड़ेगा.

पपोन न सिर्फ़ लोक संगीत से जुड़े हैं बल्कि पॉप म्यूज़िक और बॉलीवुड संगीत में भी ख़ासा दख़ल रखते हैं.

उनके एलबम 'द स्टोरी सो फ़ार' को जीमा में बेस्ट पॉप एलबम का अवार्ड मिला और हिंदी फ़िल्म बर्फ़ी में उनका गाना 'क्यों' भी सराहा गया.

पपोन अपने आपको एक स्वतंत्र कलाकार कहना ज़्यादा पसंद करते हैं न कि एक बॉलीवुड गायक.

हास्य का तड़का

फ़िल्म डेल्ही बेली से चर्चित हुए हास्य कलाकार वीर दास अपने बैंड 'एलियन चटनी' के साथ इस समारोह में हिस्सा लेंगे.

वीर दावा करते हैं कि उनका ये बैंड भारत का पहला ऐसा बैंड है जो कॉमेडी और रॉक का मिश्रण करता है.

एनएच-7 के बारे में बात करते हुए वीर दास ने बीबीसी को बताया "जैसे एक सर्कस में हंसाने के लिए जोकर होता है वैसे ही उनका ये बैंड इस समारोह में अन्य रॉक बैंड्स के बीच कॉमेडी रॉक करके श्रोताओं का ध्यान अपनी ओर खींचेगा."

इस साल यह संगीत समारोह दिल्ली (13 -14 अक्तूबर ) से शुरू होकर पुणे (2 -4 नवम्बर ) और फिर बैंगलूरु (15-16 दिसम्बर ) में जाकर ख़त्म होगा.

संबंधित समाचार