द लाइफ ऑफ पाई उर्फ सूरज

लाइफ ऑफ पाई

ऑस्कर विजेता निर्देशक की फिल्म में रोल के लिए लोग एड़िया रगड़ते हैं लेकिन दिल्ली के सूरज शर्मा को ऐसा एक रोल जाने अनजाने मिल गया.

सूरज बताते हैं कि "मेरा भाई फिल्म लाइफ ऑफ पाई के ऑडिशन के लिए गया था, मैं उसके सिर्फ सपोर्ट के लिए गया था, लेकिन किस्मत ने ऐसा पलटा खाया कि पाई का रोल मुझे मिल गया."

यानी कि किस्मत हो तो ऐसी. लेकिन सूरज ने इस फिल्म के लिए जो मेहनत की है वो कम लोग ही कर सकेंगे. शायद तभी एंग ली ने कहा है कि उन्होंने जितने भी अभिनेताओं के साथ काम किया है उनमें से सूरज शर्मा सबसे अलग हैं.

19 साल के सूरज शर्मा दिल्ली के रहने वाले हैं. वो अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त निर्देशक एंग ली की फिल्म 'लाइफ ऑफ पाई' में पाई का किरदार निभा रहे हैं. ये फिल्म 23 नवंबर को भारत में रिलीज़ हो रही है.

सूरज ने युवा 'पाई' का किरदार निभाया है, जबकि वयस्क 'पाई' इरफान खान बने हैं. अभिनेत्री तब्बू ने फिल्म में सूरज शर्मा यानी 'पाई' की मां का किरदार निभाया है.

एंग ली सूरज के बारे में कहते हैं, "मैंने कई कलाकारों के साथ काम किया, लेकिन सूरज की बात ही अलग है, उनके जैसा अदाकार मैंने आज तक नहीं देखा."

निश्चित रुप से सूरज एंग ली की इस तरह की प्रतिक्रिया से अभिभूत हैं.

वो बताते हैं, "मैं अपने भाई के साथ जब ऑडिशन में पहुंचा तो कास्टिंग निर्देशक दिलीप शंकर ने कहा कि तुम एक किशोर भारतीय लड़के हो और इस रोल के लिए फिट हो, ऑडिशन क्यों नहीं देते. मैंने सोचा चलो ट्राय कर लेते हैं और देखिए. मैं चुन लिया गया."

जी हां, सूरज ने जब फिल्म के लिए ऑडिशन दिया वो उस वक्त 16 साल के थे और दिल्ली के सरदार पटेल विद्यालय में बारहवीं कक्षा में पढ़ रहे थे. लेकिन फिल्म की शूटिंग की वजह से उन्हें पढ़ाई बीच में छोड़नी पड़ी और शूटिंग खत्म होने के बाद उन्होंने दोबारा परीक्षा दी.

फिलहाल सूरज दिल्ली के स्टीफेंस कॉलेज में फिलॉसफी की पढ़ाई कर रहे हैं.

Image caption सूरज शर्मा ने बताया कि शेर और उनके शॉट बोट पर अलग-अलग फिल्माए गए हैं.

सूरज ने बताया, "जब एंग ली ने मुझे इस रोल के लिए चुना तो मुझे बिलकुल विश्वास नहीं हुआ. लेकिन फिर मैंने सोचा चलो करके देखते हैं. और शूटिंग के दौरान ऐसा ज़बरदस्त अनुभव हुआ कि मुझे फिल्मों से अब बेहद प्यार हो गया है. इतने जुनून से और इतने समर्पण से किसी और फील्ड में काम नहीं होता."

सूरज ने बताया कि शूटिंग शुरू होने से पहले उन्हें एक्टिंग की एबीसीडी भी नहीं आती थी. तो उनके लिए पहले ट्रेनिंग का इंतज़ाम किया गया. उन्हें योग और तैरना सिखाया गया. समुद्र में किस तरह से गोता लगाया जाता है, इस बात की ट्रेनिंग दी गई.

शेर के साथ शूटिंग का अनुभव

फिल्म 'लाइफ ऑफ पाई' एक ऐसे लड़के की कहानी है, जो एक चिड़ियाघर में पला है. उसका परिवार एक बार समुद्र के रास्ते भारत से कनाडा जा रहा होता है तो रास्ते में तूफान की वजह से जहाज डूब जाता है और वो एक बोट में एक शेर के साथ फंस जाता है.

क्या शूटिंग के दौरान उन्हें सचमुच ही शेर के साथ बोट में वक्त बिताना पड़ा. सूरज ने कहा, "नहीं ऐसा नहीं हुआ. मेरे और शेर के बोट पर शॉट अलग-अलग फिल्माए गए. मुझे बोट पर शेर को देखकर उसी हिसाब से बाद में अपने हाव-भाव देने पड़ते थे."

फिल्म की शूटिंग के बाद दोस्तों और रिश्तेदारों का उनके प्रति रवैया कितना बदल गया है. इसके जवाब में सूरज ने कहा, "स्वाभाविक सी बात है. वो लोग बहुत रोमांचित है. और मुझसे फिल्म में काम करने का अनुभव पूछते रहते हैं."

और कॉलेज की लड़कियां क्या उनकी ओर आकर्षित होने लगी हैं. सूरज ने कहा, "नहीं, लड़कियों के मेरे प्रति रवैये में ऐसा कोई खास बदलाव नहीं आया है."

अब 'लाइफ ऑफ पाई' के बाद अगली योजना क्या है. इसके जवाब में सूरज ने बताया कि फिलहाल वो कुछ नहीं सोच रहे हैं. आगे की कोई प्लानिंग नहीं की है. लेकिन फिल्मों से उन्हें बेतरह प्यार हो चुका है और आगे भी लोग उन्हें फिल्म करते देखें तो किसी को कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए.

संबंधित समाचार