नाक से गाता हूं पर संगीत नहीं चुराता हूं

फ़िल्म इंडस्ट्री में 'पॉलिटिक्ली करेक्ट' बातें कहना एक फ़ैशन सा है लेकिन गायक, संगीतकार और निर्माता हिमेश रेशमिया इससे कोसों दूर हैं.

बीबीसी से ख़ास बातचीत में उन्होंने बड़े मुखर अंदाज़ में अपनी बातें सामने रखीं.

हिमेश सात दिसंबर को रिलीज़ होने वाली फ़िल्म 'खिलाड़ी 786' के संगीतकार होने के अलावा सह-निर्माता भी हैं. उन्होंने फ़िल्म की कहानी भी लिखी है. फ़िल्म के गाने लोगों की ज़ुबां पर चढ़ने भी लगे हैं.

अपने अब तक के सफ़र के बारे में हिमेश कहते हैं, "मैंने आज तक कोई भी धुन नहीं चुराई. मैं सिर्फ़ मौलिक काम में यक़ीन रखता हूं. मेरे पास जब तक ढेर सारे गानों का स्टॉक ना हो मैं काम नहीं करता."

हिमेश कहते हैं कि उन्होंने बीच में संगीत देने से लंबा ब्रेक इसलिए लिया था क्योंकि उनके पास जो धुनों का स्टॉक था वो ख़त्म हो गया था. फिर जब उन्होंने नए सिरे से काम शुरू किया और 550 के क़रीब नई धुनें बना लीं तो फिर से काम करना शुरु किया.

'मैं डटा हुआ हूं'

Image caption हिमेश रेशमिया फिल्म 'खिलाड़ी 786' के सह निर्माता भी हैं.

वो कहते हैं, "कितने ही संगीतकार आए और चले गए. मैं वहीं का वहीं डटा हूं. क्योंकि मेरे पास संगीत का ख़ज़ाना है."

बीते दिनों में हिमेश ने 'बॉडीगार्ड', 'बोल बच्चन' और 'सन ऑफ़ सरदार' जैसी फ़िल्मों का संगीत दिया था.

हिमेश कहते हैं कि उनके आलोचकों ने हमेशा उन्हें नेज़ल सिंगर कहकर नीचे गिराने की कोशिश की लेकिन उन्होंने हमेशा सबको ग़लत साबित किया.

नाक पर गर्व

"लोगों ने कहा मैं नाक से गाता हूं. हां मैं गाता हूं. और मेरे नाक से गाए सारे गाने सुपरहिट साबित हुए. मुझे गर्व है अपनी नाक पर."

फ़िल्म खिलाड़ी 786 का निर्माण हिमेश ने अक्षय कुमार के साथ मिलकर किया है. वो कहते हैं कि फ़िल्म की कहानी उन्होंने अक्षय कुमार को ही ध्यान में रखकर लिखी.

हिमेश के मुताबिक़ फ़िल्म पूरी तरह से मसाला, पारिवारिक फ़िल्म है और वो इसकी कामयाबी को लेकर ख़ासे आशान्वित हैं.

अक्षय कुमार ने खिलाड़ी सीरीज़ की कई फ़िल्मों में काम किया है, जैसे खिलाड़ी, खिलाड़ी नंबर वन, सबसे बड़ा खिलाड़ी, खिलाड़ियों का खिलाड़ी.

संबंधित समाचार