तमिल मनोरंजन जगत की हड़ताल

 सोमवार, 7 जनवरी, 2013 को 17:25 IST तक के समाचार
रजनीकांत,अभिनेता

सुपरस्टर रजनीकांत भी भूख हड़ताल में शामिल थे

केंद्रीय सरकार द्वारा लागू किए गए सर्विस टैक्स के विरोध में तमिल मनोरंजन जगत एक दिन की भूख हड़ताल पर रहा.

सरकार से सर्विस टैक्स वापस लेने की मांग में सोमवार को तमिल इंडस्ट्री के सुपरस्टार रजनीकांत समेत कई और सितारे भी शामिल थे.

सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक चली इस भूख हड़ताल में ना सिर्फ फिल्म और टीवी कलाकार बल्कि निर्देशक,तकनीशियन,थिएटर मालिक और डिस्ट्रीब्यूटर भी मौजूद थे.

गौरतलब है कि फिल्म और टीवी हस्तियों द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों और विज्ञापनों में की गई कमाई पर केंद्रीय सरकार 12.36 प्रतिशत सर्विस टैक्स लगाता है. प्रदर्शनकारियों के मुताबिक आयकर के भुगतान के बाद अब सर्विस टैक्स का भुगतान उन पर अलग से एक भार है.

"केंद्र को टैक्स ना देने वालों के लिए सख्त कानून बनाने चाहिए,इससे सरकार के पास ज़्यादा पैसे आएंगे.मुझे यकीन है केंद्र सरकार हमारी अर्जी को ध्यान में रखकर सर्विस टैक्स वापस लेगी"

रजनीकांत,तमिल फिल्म अभिनेता

केंद्र सरकार ने काले धन की रोक के लिए सर्विस टैक्स को लागू किया है लेकिन रजनीकांत के मुताबिक टैक्स बढ़ाने से काले धन में कमी नहीं बढ़ोतरी होगी.

विरोध प्रदर्शऩ स्थल से बात करते हुए रजनीकांत कहते हैं "केंद्र को टैक्स ना देने वालों के लिए सख्त कानून बनाने चाहिए,इससे सरकार के पास ज़्यादा पैसे आएंगे.मुझे यकीन है केंद्र सरकार हमारी अर्जी को ध्यान में रखकर सर्विस टैक्स वापस लेगी."

दक्षिण भारतीय फिल्म कलाकार संघ के अध्यक्ष और एक्टर सरथकुमार ने कहा कि पूरा मनोरंजन जगत चाहता है कि सर्विस टैक्स वापिस लिया जाए.

इस मौके पर एक दिन के लिए फिल्म और टीवी शूटिंग के साथ उससे जुड़ी दूसरी सभी सेवाएं बंद रही. एजेंसी के मुताबिक तमिल नाड़ू के सभी थिएटर शाम पांच 5 तक बंद रहे.

हड़ताल में रजनीकांत के अलावा अभिनेता विजय,सुर्या,सरथकुमार,प्रभू,राधिका समेत और भी कई कलाकार मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.