सड़कों पर रहने वाली लड़की पहुंची ऑस्कर तक

ऑस्कर के लिए रेस
Image caption म्वांजा को ऐन वक्त पर अमरीका का वीजा दिया गया

अमरीका में ऑस्कर समारोह शुरु हो चुका है. संकट से घिरे अफ्रीकी देश डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो में बाल सैनिकों पर बनी एक फिल्म भी ऑस्कर में पहुंची है.

‘वॉर विच’ नाम की इस फिल्म में काम करने वाली रशेल म्वांजा बर्लिन और त्रिबेका फिल्म महोत्सवों में सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री चुने जाने के बाद अब स्टार हो गई हैं और ऑस्कर के लिए लॉस एंजेलिस में रेड कारपेट पर नजर आईं.

लेकि इस 16 वर्षीय लड़की की जिंदगी खासी चुनौतीपूर्ण रही है. वॉर विच के निर्देशक किम एंगुएन कहते हैं कि म्वांजा की कहानी किसी परी कथा से कम नहीं है.

एंगुएन बताते हैं, “उसे उसके परिवार ने छोड़ दिया था और सड़कों पर जिंदगी काटनी पड़ी थी, लेकिन इस फिल्म ने उसकी जिंदगी की कायापलट कर दी. सड़कों पर बेहसारा घूमने से लेकर रेट कारपेट पर चलना तो ऐसी बात है कि उसने कभी सपने में भी ये नहीं सोचा होगा.”

बेयोंसे की प्रशंसक

वॉर विच को रिबेले के नाम से फ्रेंच भाषा में भी रिलीज किया गया.

लॉस एंजलिस टाइम्स ने लिखा है कि वॉच विच के निर्माता इस बात के लिए कोशिश कर रहे हैं म्वांजा को उनकी पसंदीदा स्टार बेयोंस से मिलवाया जाएगा.

फिल्म के निर्माता मैरी क्लोद पॉलीन ने इस अखबार को बताया, “वो बस इसी बारे में बात करती रही है. जितने भी अंग्रेजी शब्द वो जानती है, वो सब बेयोंस और रिहाना के गीत ही हैं.”

वॉर विच को कनाडा की तरफ से विदेशी भाषा की श्रेणी में भेजी गई है.

संबंधित समाचार