कसाब से शक्ल मिलना किस्मत थी

संजीव जायसवाल, अभिनेता
Image caption संजीव ने 'दि अटैक्स ऑफ 26/11' में अजमल कसाब का रोल निभाया है.

राम गोपाल वर्मा की फिल्म 'दि अटैक्स ऑफ 26/11' में अजमल कसाब का रोल निभाने वाले अभिनेता संजीव जायसवाल को स्क्रीन पर तालियों की बजाय जूते चप्पल मिल रहे हैं.

कारण - संजीव की शक्ल अजमल कसाब से काफी हद तक मेल खाती है.

एक मार्च को रिलीज़ हुई ये फिल्म 2008 में हुए मुंबई हमलों पर आधारित है. हालांकि फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कुछ ख़ास करतब नहीं दिखा पाई लेकिन कसाब के रोल में संजीव को देखकर कई दर्शक हैरत में पड़ गए हैं.

कसाब का रोल निभाने वाले संजीव दरअसल जमशेदपुर से हैं और दिल्ली में कई साल थिएटर करने के बाद उन्होंने मुंबई का रुख़ किया.

संजीव बताते हैं "मुंबई में कई साल मैंने धक्के खाए लेकिन कोई काम नहीं मिला और फिर इस फिल्म के ऑडिशन के लिए मैं पहुंचा. वो ऑडिशन का चौथा दिन था और मुझे देखते ही शॉर्टलिस्ट कर लिया गया था."

एक समाचार पत्र को दिए साक्षात्कार में राम गोपाल वर्मा ने कहा था कि संजीव जैसे ही कमरे में घुसा उसे देखकर वो स्तब्ध हो गए थे. उसके बाद ऑडिशन में उसके अभिनय ने भी उन्हें चकित कर दिया था.

स्क्रीन पर जूते चप्पल

तो क्या संजीव ने सोचा था कि पहली फिल्म जब आएगी तो दर्शकों के जूते चप्पल खाने को मिलेंगे ?

जवाब था "देखिए जब मुझे पता चला कि मैं कसाब का रोल करुंगा तभी समझ गया था कि मैं क्या करने वाला हूं और कैसी प्रतिक्रिया मिलने वाली है. फिल्म को देखने के बाद लोग गालियां दे रहे हैं, स्क्रीन पर जूते-चप्पल फेंक रहे हैं तो वो किरदार के लिए, मेरे लिए नहीं."

25 साल के संजीव मानते हैं कि "कसाब से लुक मिलना मेरी किस्मत थी लेकिन लोगों को विश्वास दिलाना कि जो स्क्रीन पर है वो असली है और फिर जूते चप्पल और गालियां खाना इसके लिए तो एक अच्छा एक्टर होना ज़रुरी है ना."

परिवार का एतराज़

फिल्म के रिलीज़ के बाद लोगों के बदले रवैये पर संजीव कहते हैं "पहले फेसबुक पर फ्रैंड रिक्वेस्ट नहीं आते थे आजकल हर दिन 20-25 आ जाते हैं. पहले फोन नहीं आते थे अब पुराने दोस्तों के भी फोन आ जाते हैं तो ज़िदंगी तो काफी बदली है."

संजीव बताते हैं कि पहले परिवार वालों ने थोड़ा एतराज़ जताया लेकिन फिर उन्होंने समझाया कि बतौर अभिनेता हर तरह के रोल करने पड़ते हैं और ये भी उनमें से एक है.

कसाब के किरदार को निभाते वक्त अपने अनुभव के बारे में संजीव ने कहा "दिन की शूटिंग खत्म करने के बाद सोचता था कि कसाब के दिमाग को किस तरह ब्रैन वॉश किया गया है. उसे खुद नहीं पता था कि वो क्या कर रहा है. उस हिसाब से मैं खुद को उससे जोड़ नहीं पा रहा था कि मैं ऐसा कभी नहीं हो सकता हूं."

संजीव जायसवाल ने 'दि अटैक्स ऑफ 26/11' के अलावा टेलीविज़न पर एक कॉमेडी शो भी किया है.

संबंधित समाचार