तिमाही परीक्षा में बॉलीवुड फेल

मर्डर 3

परीक्षा का मौसम चल रहा है और बच्चों के साथ साथ कंपनियों के वित्तीय प्रबंधक भी अपनी बही-खाते और हिसाब किताब में जुटे हैं.

इसी तरह बॉलीवुड ने भी 2013 की तिमाही परीक्षा पूरी कर ली है.

जनवरी से लेकर मार्च के बीच करीब 30 फ़िल्में रिलीज़ हुई जिसमें बड़े सितारों से लैस 'रेस 2' जैसी फ़िल्म शामिल थी तो एकदम नए कलाकारों वाली 'काय पो छे' ने भी थिएटर में दस्तक दी.

मर्डर और मर्डर 2 की कामयाबी के बाद भट्ट कैंप की मर्डर 3 भी फरवरी में रिलीज़ हुई थी.

गौरतलब है कि इस तिमाही में हिंदी फ़िल्मों में अपना बोलबाला रखने वाले तीन ख़ान - आमिर, सलमान और शाहरुख़ में से किसी की फ़िल्म रिलीज़ नहीं हुई.

हालांकि अक्षय कुमार की स्पेशल छब्बीस ज़रुर रिलीज़ हुई लेकिन क्या उनके नाम ने इस फ़िल्म का कुछ भला हो पाया ?

नए और पुराने चेहरों के साथ बॉलीवुड का तिमाही परिणाम कैसा रहा ?

कोई हिट नहीं

ट्रेड विशेषज्ञ कोमल नाहटा के मुताबिक इस तिमाही में कोई भी फ़िल्म हिट नहीं रही, ज़्यादातर फ़िल्मों को अपने लगाए पैसे भी नहीं जुटा सकी और कुछ को सिर्फ लागत वापिस मिली.

ठीक-ठाक व्यवसाय करने वाली फ़िल्मों मे कोमल ने टेबल नं 21, मेरे डैड की मारुति और जॉली एलएलबी का नाम लिया.

जहां तक मल्टीस्टारर रेस 2 का सवाल है तो कोमल के मुताबिक इस फ़िल्म से निर्माता कपंनी यूटीवी का कम से कम 20 करोड़ का घाटा हुआ है.

अक्षय कुमार की फ़िल्म 'स्पेशल 26' के बारे में बात करते हुए कोमल कहते हैं "ये फ़िल्म कम से कम 5 हफ्ते चली लेकिन ऑल इंडिया डिस्ट्रीब्यूटर ने इस फ़िल्म के अधिकार करीब 35 करोड़ रुपए में खरीदे थे जो उन्हें वापस नहीं मिल पाए इसलिए मैं इसे हिट नहीं मानता."

सबसे बड़ा झटका

कोमल के अनुसार सबसे बड़ा झटका देने वाली फ़िल्म रेस 2 रही जो कि इन तीन महीनों की सबसे बड़ी फ़िल्म भी थी.

2008 में आई रेस के सिक्वेल के बारे में कोमल ने कहा "रेस एक बहुत बड़ा ब्रांड है और इस फ़िल्म ने काफ़ी पैसे भी कमाए थे लेकिन उसके मुकाबले रेस 2 के कलेक्शन तीन दिन में बहुत बुरी तरह गिरे और वो एक बहुत बड़ी फ्लॉप साबित हुई."

रणबीर से उम्मीद

तो क्या इस साल की तुलना में पिछले साल की शुरुआती तिमाही ज़्यादा बेहतर थी ? जवाब में कोमल ने कहा कि पिछले साल जनवरी में अग्निपथ रिलीज़ हुई थी जो कि एक बहुत बड़ी हिट साबित हुई थी यानि हिट फ़िल्म का पहले महीने में ही खाता खुल गया था. वहीं इस साल तो तीन महीने बीत चुके हैं लेकिन कुछ विशेष नहीं हुआ.

कोमल के मुताबिक इस साल की धमाकेदार हिट के लिए चार पांच महीने और इंतज़ार करना पड़ेगा. अगले तीन महीने में रणबीर कपूर की 'ये जवानी है दिवानी' से उम्मीद की जा सकती है. बाकि आमिर खान की 'धूम 3' हो या शाहरुख़ की 'चेन्नई एक्सप्रेस', सभी बड़ी फ़िल्में साल के आखिरी महीनों में रिलीज़ होगी.

कुल मिलाकर बॉलीवुड के लिए इस तिमाही का परिणाम कुछ ख़ास नहीं रहा, थोड़ी मेहनत और करनी पड़ेगी.

संबंधित समाचार