मैंने चोरी नहीं की: अमित त्रिवेदी

अमित त्रिवेदी, संगीतकार
Image caption पिछले दिनों अमित त्रिवेदी पर धुन चुराने का आरोप लगाया गया.

अगर आप नई हिंदी फिल्मों के गाने सुनते हैं तो अमित त्रिवेदी का नाम शायद आपने सुना होगा.

'आमिर' फिल्म से शुरुआत करने वाले अमित फिलहाल बॉलीवुड के व्यस्ततम संगीतकारों में से एक हैं.

'देव डी' के सुपरहिट संगीत से अमित ने कई पुरस्कार जीते और साथ ही फिल्म इंडस्ट्री की नज़रों में भी आ गए.

वर्तमान में अमित 'घनचक्कर' और 'लुटेरा' जैसी फिल्मों में संगीत दे रहे हैं लेकिन जैसा कि कलाकारों के साथ अक्सर होता है, अमित के संगीत पर चोरी का आरोप लगाया जा रहा है.

दरअसल अमित की नई फिल्म 'लुटेरा' का थीम संगीत, ब्रिटिश संगीतकार रेचेल पॉर्टमैन की धुन से काफी मेल खा रहा है.

बीबीसी से बातचीत में अमित ने कहा, "हुआ यूं कि एक साल पहले मैंने ये धुन बनाई थी किसी और गाने के लिए लेकिन लुटेरा के निर्देशक विक्रमादित्य को ये इतनी अच्छी लगी कि उन्होंने कहा कि इसे फिल्म का थीम संगीत बनाते हैं. लेकिन जैसे ही ये रिलीज़ हुआ तो यूट्यूब वगैरह पर मैंने लोगों के कमेंट पढ़े कि अमित त्रिवेदी चोर है. ये धुन तो रेचेल पॉर्टमैन की है."

रेचेल को चिट्ठी

Image caption अमित ने फिल्म 'लुटेरा' में संगीत दिया है.

अमित कहते हैं, "ये सब पढ़कर मैं तो हिल गया, विक्रम और फिल्म के निर्माता अनुराग कश्यप भी चकरा गए. फिर हमें समझ आया कि दरअसल रेचेल के गीत वन डे की शुरुआती धुन का नोट वैसे तो अलग है लेकिन एक आम आदमी अगर उसे सुने तो वो एक जैसा लगेगा."

अपने ऊपर से इस आरोप को हटाने के लिए अमित ने बताया कि उन्होंने रेचेल के घर फोन किया और उन्हें एक ईमेल भी भेजा.

ईमेल के बारे में अमित ने कहा, "ईमेल में मैने पूरी बात लिखी कि किस तरह महज़ संयोग है कि उनकी और मेरी धुन मिलती-जुलती है. मैंने तो उनसे चार्ज भी पूछ लिया था लेकिन उनका कोई जवाब ही नहीं आया और इसलिए मामला वैसे ही रह गया."

"अमित अब प्रीतम हो गया"

इस पूरी घटना में कई लोगों ने अमित की तुलना प्रीतम और अनु मलिक से भी कर डाली जिन पर समय समय पर धुन चुराने के आरोप लगते रहे हैं.

Image caption 'आयशा' में अमित के संगीत की काफी सराहना की गई थी.

हालांकि जब अमित से इस बारे में पूछा गया तो जवाब मिला, "हां मैंने कमेंट पढ़े थे जहां लोगों ने प्रीतम और अनु मलिक से मेरी तुलना की थी. हालांकि मुझे ये दोनों संगीतकार बहुत पसंद है लेकिन फिर भी मैं लोगों की प्रतिक्रिया से काफी सदमे में था."

अपनी बात पूरी करते हुए अमित ने कहा, "देखिए दुनिया में केवल सात सुर है और कौन से कोने में किसने क्या धुन बनाई है और किस तरह वो किसी और से मिलती है ये पता करना मुश्किल है. इस धुन का मिलना ये मेरी क्या किसी की भी गलती नहीं है."

अमित के अनुसार वो तो जानते भी नहीं थे कि रेचेल पॉर्टमैन नाम की कोई संगीतकार है.

रेचेल ने कई अंग्रेज़ी फिल्मों के लिए धुने बनाई हैं औऱ 1996 में फिल्म 'एमा' के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ कॉमेडी स्कोर का अकादमी पुरस्कार भी मिल चुका है.

वहीं अमित ने वेकअप सिड, काय पो चे, आयशा और उड़ान जैसी फिल्मों का संगीत दिया है.

( बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार